Type to search

7th Pay Commission : जुलाई में बढ़ सकता है कर्मचारियों का महंगाई भत्‍ता

जरुर पढ़ें देश

7th Pay Commission : जुलाई में बढ़ सकता है कर्मचारियों का महंगाई भत्‍ता

Share
DA

सरकारी कर्मचारियों को जल्‍द ही अच्‍छी खबर मिल सकती है. सरकार कर्मचारियों के महंगाई भत्‍ते में जुलाई में इजाफा कर सकती है. फिलहाल कर्मचारियों को 34 फीसदी महंगाई भत्‍ता मिल रहा है. अखिल भारतीय उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (AICPI Index) में बढ़ोतरी होने के बाद उम्‍मीद की जा रही है कि सरकार महंगाई भत्‍ते में अच्‍छी-खासी बढ़ोतरी करेगी.

गौरतलब है कि सरकार साल में दो बार महंगाई भत्‍ता देती है. सरकार ने हाल ही में महंगाई भत्‍ते में इजाफा किया था. इसे 3 फीसदी बढ़ाकर 34 फीसदी कर दिया गया है. अब एक बार फिर इसमें बढ़ोतरी की जानी है. उम्‍मीद की जा रही है कि महंगाई बढ़ने के कारण इस बार इसमें 3 की बजाय चार फीसदी का इजाफा किया जाएगा. केंद्रीय कर्मचारियों को दो बार महंगाई भत्ता दिया जाता है. पहला जनवरी और दूसरा जुलाई के महीने में. पिछले कुछ दिनों में महंगाई दर में काफी उछाल आया है. अखिल भारतीय उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (AICPI Index) में जनवरी और फरवरी में हल्की गिरावट आई थी.

जनवरी में यह 125.1 अंकों पर था, जो फरवरी में घटकर 125 अंक पर आ गया. लेकिन, मार्च में अखिल भारतीय उपभोक्ता मूल्य सूचकांक में बढ़ोतरी हुई और यह 126 पर पहुंच गया है. अगर आगे भी इस सूचकांक में बढ़ोतरी होती है तो सरकार को कर्मचारियों के डीए को भी बढ़ाना होगा. इस साल की शुरुआत में सरकार डीए एक बार बढ़ा चुकी है. अभी डीए 34 फीसदी है. अगर इसमें 4 फीसदी की और बढ़ोतरी सरकार करती है तो यह 38 फीसदी हो जाएगा. सरकार के इस फैसले से 50 लाख से अधिक सरकारी कर्मचारियों और 65 लाख पेंशनभोगियों को लाभ होगा.

जिन कर्मचारियों की बेसिक सैलरी 56,900 रुपये है, उनको 38 प्रतिशत महंगाई भत्ता होने पर 21,622 रुपये DA मिलेगा. अभी 34 फीसदी की दर से 19,346 रुपये मिल रहे हैं. 4 फीसदी डीए बढ़ने से सैलरी में 2,276 रुपये बढ़ जाएंगे. यानी, सालाना करीब 27,312 रुपये वेतन के रूप में ज्‍यादा मिलेंगे.

7th Pay Commission: Dearness Allowance of employees may increase in July

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *