Type to search

जेल में ही रहेगा ‘गालीबाज’ श्रीकांत त्यागी, जमानत याचिका खारिज

देश

जेल में ही रहेगा ‘गालीबाज’ श्रीकांत त्यागी, जमानत याचिका खारिज

Share
Shrikant Tyagi

गालीबाज श्रीकांत त्यागी की जमानत याचिका खारिज हो गई. गैंगस्टर एक्ट के तहत सुनवाई के दौरान सेशन कोर्ट ने श्रीकांत त्यागी की जमानत याचिका खारिज कर दी. सुनवाई के दौरान पुलिस ने केश डायरी पेश की. इसमें त्यागी के खिलाफ 9 मुकदमों का भी जिक्र किया. श्रीकांत त्यागी को अभी भी जेल में रहना पड़ेगा. नोएडा की पॉश सोसायटी में महिला से बदसलूकी का वीडियो वायरल होने के बाद से श्रीकांत त्यागी सुर्खियों में है.

श्रीकांत त्यागी का 5 अगस्त को महिला से गाली-गलौज करने का वीडियो वायरल हुआ था. मामले के तूल पकड़ते ही पुलिस ने केस दर्ज किया था. इसके बाद से ही आरोपी फरार चल रहा था. पुलिस ने उस पर गैंगस्टर की कार्रवाई कर 25 हजार का इनाम भी घोषित किया था. पुलिस की 12 टीमें उसकी तलाश में जुटी हुई थीं. आखिरकार उसे मेरठ से पकड़ा गया था और उसे जेल भेज दिया गया.

श्रीकांत त्यागी के मामले को लेकर राजनीति भी जारी है. शुक्रवार को समाजवादी पार्टी का एक डेलिगेशन श्रीकांत के परिवार से मिलने सेक्टर-93 स्थित सोसायटी में पहुंचा. इस दौरान उनके साथ बड़ी संख्या में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता भी मौजूद थे. हालांकि, पुलिस ने गेट पर ही रोक दिया. सिर्फ कुछ ही लोगों को अंदर जाने की अनुमति दी गई है. वहीं सोसायटी के बाहर बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात की गई.

श्रीकांत त्यागी के परिवार से मिलने के फैसले से नाराज होकर नोएडा महानगर उपाध्यक्ष ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल को भेजे गए अपने इस्तीफे में शैलेंद्र कुमार ने कई आरोप लगाए हैं. उन्होंने अपने इस्तीफा पत्र में लिखा, “मुझे महिलाओं के साथ गाली गलौज धक्का-मुक्की और बदतमीजी मुझे या मेरे किसी भी सहयोगी को बर्दाश्त नहीं है. आखिर राष्ट्रीय अध्यक्ष 9 सदस्य प्रतिनिधिमंडल इनाम घोषित अपराधी श्रीकांत त्यागी के परिवार से मिलने की अनुमति कैसे दे सकते हैं? जिस अपराधी प्रवृति के व्यक्ति से बीजेपी ने दामन छुड़ा लिया, उससे सपा कैसे चिपक सकती है? सोसाइटी के अलावा नोएडा उत्तर प्रदेश और पूरे देश में हर कोई महिला की साथ दुर्व्यवहार पर दुखी है.

‘Abusive’ Shrikant Tyagi will remain in jail, bail plea rejected

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *