Type to search

आंदोलन खत्म होने के बाद किसानों की घर वापसी शुरू

देश

आंदोलन खत्म होने के बाद किसानों की घर वापसी शुरू

Share
return of the farmers started

एक साल से ज्यादा किसान सडकों पर डटे रहे. खुले आसमान के नीचे तंबू और टेंट के भीतर गर्मी-सर्दी सब सहते रहे, लेकिन आज किसानों के चेहरे पर कोई परेशानी नहीं, बल्कि उनके भीतर जीत का भाव है. किसानों में जश्न का माहौल है. कानून वापसी की मांग मनवाकर आज किसान घर लौटे रहे हैं. इस बीच किसानों ने आज पूरे देश में विजय दिवस मनाने का एलान किया है.

दिल्ली से हरियाणा तक से किसान अपने घरों को लौट रहे हैं. नेशनल हाइवे 44 पर आंदोलन के दौरान बनाए गए ईंटों के मकानों को किसानों ने तोड़ दिया है. सड़क से तंबू, टेंट और पंडाल हटाए जा रहे हैं. आंदोलनरत किसानों ने ट्रैक्टर ट्रॉलियों तक में घर बना रखा था. अब ये ट्रैक्टर ट्रॉलियां पंजाब-हरियाणा और यूपी के खेतों में वापस पहुंचेगी. अन्नदाता अनाज उगाने के काम में जुट जाएंगे और दिल्ली की चमचमाती सड़कों पर एक साल बाद गाड़ियां फर्राटा भरकर दौड़ना शुरू कर देंगी. आंदोलन खत्म करने के एलान के साथ किसानों ने घर वापसी के लिए 11 और 12 दिसंबर की तारीख तय की थी. दिल्ली की सीमाओं से लौटने वाले किसानों का पंजाब सरकार स्वागत करेगी. इसका एलान सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने किया है. किसानों, मजदूरों और संयुक्त किसान मोर्चा को बधाई देते हुए चरणजीत सिंह चन्नी ने कहा ये केंद्र सरकार के खिलाफ किसानों की जीत है. राज्य सरकार अपनी माटी के बेटों का स्वागत करेगी.

सिंघु बॉर्डर से किसान अंबाला तक साथ जाएंगे और फिर अपने-अपने जिले के लिए जाएंगे, लेकिन जिनके घर दूर हैं, वो फतेहपुर साहिब में आज की रात रुकेंगे. जबकि टिकरी बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसान पटियाल के रास्ते पंजाब पहुंचेंगे. कुल मिलाकर कल यानी 12 दिसंबर तक सभी किसानों के अपने-अपने घर पहुंच जाने का कार्यक्रम है. वहीं 13 दिसंबर को किसान अमृतसर में श्री दरबार साहब में मत्था टेकेंगे.

15 दिसंबर के बाद सभी पंजाब-हरियाणा सब जगह टोल, मॉल और पेट्रोल पंप पर चल रहा प्रदर्शन खत्म हो जाएगा. 15 दिसंबर तक किसानों की टोली पंजाब-हरियाणा समेत दिल्ली की सड़कों को पुरी तरह खाली कर देगी. दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर पर से बैरिकेडिंग भी हट जाएगी और दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे पर गाड़ियां फिर दौड़ने लगेगी.

After the end of the agitation, the return of the farmers started

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *