Type to search

कृषि कानून | तत्काल वापस नहीं लेंगे आंदोलन, संसद में रद्द होने तक करेंगे इंतजार : राकेश टिकैत

जरुर पढ़ें देश राजनीति

कृषि कानून | तत्काल वापस नहीं लेंगे आंदोलन, संसद में रद्द होने तक करेंगे इंतजार : राकेश टिकैत

Share

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों की मांग मान ली है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को सुबह ही तीन कृषि कानून को वापस लेने की घोषणा करने के साथ किसानों से घर लौटने की अपील भी की है. इन सबके बीच किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता और संयुक्त किसान मोर्चा के सह संयोजक राकेश टिकैत ने एलान किया है कि किसान आंदोलन तत्काल वापस नहीं होगा।

राकेश टिकैत ने प्रतिक्रिया में कहा है कि तत्काल आंदोलन वापस नहीं होगा। राकेश टिकैत ने ट्वीट किया है -आंदोलन तत्काल वापस नहीं होगा, हम उस दिन का इंतजार करेंगे जब कृषि कानूनों को संसद में रद किया जाएगा। सरकार टरढ के साथ-साथ किसानों के दूसरे मुद्दों पर भी बातचीत करे।’

गौरतलब है कि तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ तकरीबन पिछले एकत साल से दिल्ली-एनसीआर के चारों बार्डर (शाहजहांपुर, टीकरी, सिंघु और गाजीपुर) पर यूपी, हरियाणा और पंजाब समेत कई राज्यों के किसान प्रदर्शन कर रहे हैं। किसान प्रदर्शनकारी 26 नवंबर, 2020 से तीनों कृषि कानूनों के वापस लिए जाने की मांग कर रहे थे।

घटनाक्रम पर जल्द बैठक करेंगेः किसान मोर्चा
संयुक्त किसान मोर्चा ने पीएम मोदी के ऐलान पर कहा कि मोर्चा इस निर्णय का स्वागत करता है और उचित संसदीय प्रक्रियाओं के माध्यम से घोषणा के प्रभावी होने की प्रतीक्षा करेगा. मोर्चा ने कहा कि प्रधानमंत्री को यह भी याद दिलाया कि किसानों का आंदोलन न केवल तीन काले कानूनों को निरस्त करने के खिलाफ है, बल्कि सभी कृषि उत्पादों तथा सभी किसानों के लिए लाभकारी मूल्य की वैधानिक गारंटी के लिए भी है. किसानों की यह अहम मांग अभी बाकी है. मोर्चा इन सभी घटनाक्रमों पर ध्यान देगा, जल्द ही अपनी बैठक करेगा और आगे के निर्णयों की घोषणा करेगा.

Agricultural Law | Will not withdraw the agitation immediately, will wait till it is canceled in Parliament: Rakesh Tikait

Share This :
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *