Type to search

शाहीन बाग में अतिक्रमण पर आक्रमण! बुलडोजर के सामने बैठे लोग

जरुर पढ़ें देश

शाहीन बाग में अतिक्रमण पर आक्रमण! बुलडोजर के सामने बैठे लोग

Share on:

देश की राजधानी दिल्ली के शाहीन बाग इलाके पर आज नगर निगम का बुलडोजर चल सकता है, ये वही इलाका है, जहां कुछ महीनों पहले CAA-NRC के विरोध में प्रदर्शन हो रहा था. प्राप्त जानकारी के अनुसार आज सुबह साढ़े 10 बजे दक्षिणी दिल्ली एमसीडी की बुलडोजर चलाने की योजना थी. लेकिन पुलिस सुरक्षा नहीं मिलने के कारण इस पर संशय बना हुआ है.

योजना के अनुसार शाहीन बाग जी ब्लॉक जसोला कैनाल से कालिंदी कुंज पार्क तक बुलडोजर के सहारे अवैध अतिक्रमण हटाया जाना है. बुलडोजर का यह एक्शन पिछले सप्ताह गुरुवार को होना था लेकिन पर्याप्त संख्या में पुलिस बल नहीं मिलने के कारण इसे आगे के लिए टाल दिया गया था. एमसीडी की आशंकित डिमोलिशन की कार्रवाई के मद्देनजर शाहीन बाग में लोगों में रोष दिखाई दे रहा है. कार्रवाई के लिए पहुंचे बुलडोजर के सामने स्थानीय लोग बैठ गए हैं. उन्होंने कार्रवाई को राजनीति से प्रेरित बताते हुए कहा कि अतिक्रमण हटाने से पहले कोई नोटिस नहीं दिया गया. इसी बीच इलाके में भारी पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है.

गौरतलब है कि भारतीय जनता पार्टी की दिल्ली इकाई के प्रमुख आदेश गुप्ता ने स्थानीय महापौर को 20 अप्रैल को पत्र लिख कर ‘‘रोहिंग्या, बांग्लादेशियों और असमाजिक तत्वों’’ द्वारा किए गए अतिक्रमण को हटाने का अनुरोध किया था जिसके बाद एसडीएमसी के इलाकों में अतिक्रमण विरोधी अभियान चलाने की योजना बनाई गई.

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (CPIM) की दिल्ली इकाई और हॉकर्स यूनियन ने साउथ दिल्ली नगर निगम द्वारा अतिक्रमण-विरोधी अभियान की आड़ में इमारतों को गिराए जाने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है और इसे ‘‘प्राकृतिक न्याय के सिद्धांतों, विधियों और संविधान का उल्लंघन’’ करार दिया है. याचिकाकर्ताओं ने दलील दी है कि वे अनधिकृत कब्जाधारी या अतिक्रमणकर्ता नहीं हैं, जैसा कि दक्षिण दिल्ली नगर निगम और अन्य ने आरोप लगाए है

Attack on encroachment in Shaheen Bagh! people sitting in front of bulldozer

Asit Mandal

Share on:
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *