Type to search

राम मंदिर के लिए भूमिपूजन संपन्न

देश

राम मंदिर के लिए भूमिपूजन संपन्न

Modi
Share on:

अयोध्या में बुधवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विधि विधान के साथ राम मंदिर की नींव रखी और भूमिपूजन किया। इस दौरान उनके साथ यूपी की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, सीएम योगी और संघ प्रमुख मोहन भागवत भी साथ थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूरे 29 साल बाद अयोध्या पहुंचे। आखिरी बार 1991 में अयोध्या आए थे। अयोध्या पहुंचने के बाद सबसे पहले पीएम मोदी ने हनुमानगढ़ी में दर्शन किया, इसके बाद रामलला का दर्शन करने गए। इसके बाद उन्होंने पूजा और यहां से भूमि पूजन कार्यक्रम में गए। आज के इस ऐतिहासिक दिन के लिए पीएम ने पीले रंग का पारंपरिक धोती कुर्ता पहना था।

इस दौरान पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि हमें आपसी प्रेम-भाईचारे के संदेश से राम मंदिर की शिलाओं को जोड़ना है। हमने जब-जब राम को माना है… विकास हुआ है, जब भी हम भटके हैं… विनाश हुआ है। हमें सभी की भावनाओं का ध्यान रखना है, सबके साथ और विश्वास से ही सबका विकास करना है।

बता दें कि भूमि पूजन का शुभ मुहूर्त 12.44.08 मिनट था। पूजा के दौरान 9 शिलाओं का अनुष्ठान किया गया, इसके अलावा भगवान राम की कुलदेवी काली माता की भी पूजा की गई। पूजा करने वाले संत ने बताया कि देश और दुनिया के अलग-अलग हिस्सों से शिलाएं लाई गई हैं, जिनपर श्रीराम का नाम लिखा है।

भूमि पूजन के मुख्य आचार्य काशी के विद्वान पंडित जयप्रकाश उपाध्याय थे। पूजन में देशभर के कई स्थानों से बुलाए गए कुल 22 आचार्य शामिल रहे। ये पूरा अनुष्ठान रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के कोषाध्यक्ष महंत गोविंद देव गिरि के निर्देशन में संपन्न हुआ। महागणपति-अम्बिका पूजन, वरुण पूजन, षोडश मात्रिका पूजन, सप्तघृत मात्रिका पूजन, आयुष मंत्र जप, नींव में प्रतिष्ठित की जाने वाली नौ प्रस्तर खंड शिलाओं का संस्कार और पूजन, ग्रह शांति, शिलाओं के देवता के निमित्त आहुति दी गई।

श्रीराम जन्मभूमि परिसर में भूमिपूजन के लिए एक मंच बनाया गया था। इस पर सिर्फ पांच लोग प्रधानमंत्री मोदी, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास मौजूद रहे। राम जन्मभूमि मंदिर के भूमिपूजन कार्यक्रम में बाबरी मस्जिद के पक्षकार रहे इकबाल अंसारी को भी न्योता दिया गया था। इसके अलावा अवधेशानंद, स्वामी रामदेव, चिदानंद मुनि, साध्वी ऋतंभरा, पुज्य परमानंद जी महाराज, राघवाचार्य, महामंडलेश्वर अखिलेशानंद, डॉ. श्यामदेव देवाचार्य, जगदगुरु रामानंदाचार्य समेत कई साधु-संत भूमिपूजन कार्यक्रम में शामिल हुए।

भमिपूजन के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट कर आभार व्यक्त किया।

Asit Mandal

Share on:
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *