Type to search

भारत को बांग्लादेश ने बताया सबसे अच्छा दोस्त

दुनिया देश

भारत को बांग्लादेश ने बताया सबसे अच्छा दोस्त

Share
Bangladesh

भारत ने आज ही के दिन बांग्लादेश को पाकिस्तान की चंगुल से आज़ाद कराया था। इस दिन को विजय दिवस के नाम से जाना जाता है। इस अवसर पर बांग्लादेशी सेना के एक पूर्व लेफ्टिनेंट कर्नल ने भारत को बांग्लादेश का बेस्ट फ्रेंड बताते हुए चीन के सम्बन्ध में कहा कि उसके साथ बांग्लादेश के केवल व्यापारिक रिश्ते है।

बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के दिग्गज, लेफ्टिनेंट कर्नल क़ाज़ी सज़ाद अली ज़हीर ने चीन को चेतावनी देते हुए कहा है कि ‘यह 1962 नहीं है, यह 2022 है।’ उन्होंने कहा कि भारतीय सेना बेहद मजबूत और प्रशिक्षित सेना है। उन्होंने कहा कि भारत आक्रामक राष्ट्र नहीं है और चीन के साथ बांग्लादेश का महज व्यापारिक संबंध है। उन्होंने कहा कि भारत आज भी बांग्लादेश का सबसे अच्छा दोस्त बना हुआ है।

रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने कहा कि, ‘एक स्वतंत्रता सेनानी होने के नाते मैं अभी भी 1971 में रहता हूं, जिस अवधि से मैं प्यार करता हूं और जिन लोगों ने हमारी सहायता की, हम उनसे प्यार करते हैं। बांग्लादेश-भारत की दोस्ती अनंत काल के लिए है – खून, मिट्टी और बलिदान से बनी दोस्ती है। यह रिश्ता काफी लंबे समय तक बना रहेगा।’ उन्होंने पाकिस्तान को एक ‘जेनोसाइडल नेशन’ यानी “नरसंहार करने वाला देश” बताया है। उन्होंने उस दौर को याद किया जब बांग्लादेश में बड़ी संख्या में लोग मारे गए, बलात्कार हुईं और सरेआम हत्याएं हुई थीं।

पूर्व लेफ्टिनेंट ने कहा कि शेख मुजीबुर रहमान ‘बंगबंधु’ पड़ोसी के साथ मित्रता की इस अवधारणा में यकीन करते थे। प्रधानमंत्री शेख हसीना भी इस अवधारणा में विश्वास करती हैं और वह इस संबंध को बहुत जीवंत, सही और ऐतिहासिक रूप से सही रखने का पूरा प्रयास कर रही हैं।’ बांग्लादेश सेना के पूर्व लेफ्टिनेंट ने यह भी कहा कि, ‘उस वक़्त भारत के लोगों ने, भारत की सरकार ने, भारत की सेनाओं ने हमें समर्थन दिया और यही वजह है कि हम जीत गए, यही वजह है कि हम भारत के इतने करीब महसूस करते हैं और वे राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हमारे सबसे अच्छे दोस्त हैं।’

Bangladesh told India best friend

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *