Type to search

भारत की फटकार के बाद जागे ब्रिटेन के अफसर, उच्चायोग में खालिस्तानी उपद्रव की निंदा की

दुनिया

भारत की फटकार के बाद जागे ब्रिटेन के अफसर, उच्चायोग में खालिस्तानी उपद्रव की निंदा की

Britain
Share on:

लंदन में स्थित भारतीय उच्चायोग पर तिरंगा का अपमान करने और तोड़फोड़ की घटना की ब्रिटेन के अधिकारियों ने निंदा की है। भारत सरकार की तरफ से कड़ी आपत्ति जताए जाने के बाद ब्रिटेन के अधिकारी सतर्क हो गए हैं। अधिकारियों ने कहा है कि भारतीय उच्चायोग की सुरक्षा को गंभीरता से लिया जाएगा। मामले में दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी।

बता दें कि भारत में खाालिस्तान समर्थक अमृतपाल सिंह के खिलाफ कार्रवाई चल रही है। इससे खालिस्तान समर्थक तमतमाए हुए हैं और उनके द्वारा विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। लंदन में भारतीय उच्चायोग में हुए विरोध प्रदर्शन भी इन्हीं विरोध प्रदर्शनों का हिस्सा था। यहां खालिस्तानी समर्थकों ने उच्चायोग पर लगे तिरंगा को उतार दिया। खालिस्तानी झंडा फहराने लगे। हालांकि, तुरंत उच्चायोग के एक भारतीय अधिकारी ने खालिस्तानी समर्थकों को ऐसा करने से रोक दिया। बताया जाता है कि खालिस्तानी समर्थकों ने इस दौरान तोड़फोड़ भी की। इस मामले में ब्रिटिश पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार भी कर लिया है।

ब्रिटेन के अधिकारियों ने क्या कहा?
इस घटना के बाद शीर्ष ब्रिटिश अधिकारियों ने कहा है कि ब्रिटेन सरकार यहां भारतीय उच्चायोग की सुरक्षा को ‘गंभीरता’ से लेगी। अधिकारियों ने उच्चायोग में तोड़फोड़ को अपमानजनक और पूरी तरह से अस्वीकार्य करार दिया। मेट्रोपॉलिटन पुलिस ने कहा कि सुरक्षा कर्मचारियों के दो सदस्यों को मामूली चोटें आईं, जिन्हें अस्पताल में इलाज की आवश्यकता नहीं है। मामले की जांच शुरू हो गई है। उधर, लंदन के मेयर सादिक खान ने इस पूरे घटना की निंदा की। उन्होंने ट्वीट किया, ‘इस तरह के व्यवहार के लिए हमारे शहर में कोई जगह नहीं है।’

भारत में ब्रिटिश उच्चायुक्त एलेक्स एलिस ने भी इस घटना को ‘अपमानजनक’ बताया। विंबलडन के विदेश कार्यालय मंत्री लॉर्ड तारिक अहमद ने कहा कि वह हैरान हैं और सरकार भारतीय उच्चायोग की सुरक्षा को “गंभीरता से” लेगी। उन्होंने ट्वीट किया, ‘यह उच्चायोग और उसके कर्मचारियों की अखंडता के खिलाफ पूरी तरह से अस्वीकार्य कार्रवाई है।’

Britain’s officers woke up after India’s rebuke, condemned Khalistani nuisance in the High Commission

Asit Mandal

Share on:
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *