Type to search

पैंगोंग झील पर LAC के पास चीन बना रहा दूसरा पुल, सैटेलाइट तस्वीरों में खुलासा

जरुर पढ़ें दुनिया देश

पैंगोंग झील पर LAC के पास चीन बना रहा दूसरा पुल, सैटेलाइट तस्वीरों में खुलासा

Share

पूर्वी लद्दाख की विवादित पैंगोंग झील पर चीन की पीएलए ने दूसरे पुल का निर्माण-कार्य शुरू कर दिया है. ओपन-सोर्स इंटेलीजेंस, डेड्रस्फा (डैमिन सिमोन) ने सैटेलाइट इमेज के जरिए इस बात का खुलासा किया है. हालांकि, चीन ने इस पुल का निर्माण भी पहले ब्रिज की तरह ही अपने अधिकार-क्षेत्र वाली झील पर शुरू किया है लेकिन चिंता की बात ये है कि ये भारत से सटी एलएसी के बेहद करीब में तैयार किया गया है.

डेट्रस्फा ने जो सैटेलाइट इमेज जारी की है, उससे पता चलता है कि दूसरा पुल पहले ब्रिज से सटा हुआ है. दूसरा पुल पैंगोंग झील के दोनों छोर यानी उत्तर और दक्षिण दोनों तरफ से बनाया जा रहा है. ये पुल पहले वाले ब्रिज से बिल्कुल सटा हुआ है जिसका निर्माण-कार्य हाल ही में चीन ने पूरा किया था. हालांकि, भारत की तरफ से अभी तक इस दूसरे पुल को लेकर कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है लेकिन माना जा रहा है कि या तो चीन की पीएलए सेना आने और जाने के लिए अलग-अलग पुलों का निर्माण कर रही है. या फिर हो सकता है कि एक पुल पैदल-सैनिकों के लिए हो और दूसरा टैंक, आर्म्ड पर्सनेल कैरियर (एपीसी) और दूसरे मिलिट्री-व्हीकल्स के लिए हो.

पूर्वी लद्दाख से सटी एलएसी पर चल रहे सीमा विवाद के बीच चीन की पीएलए-सेना ने इसी साल जनवरी के महीने में पुल बनाने का काम शुरू किया था और महज पांच महीने में इसे बनाकर खड़ा कर दिया था. इस पुल का खुलासा भी ओपन सोर्स सैटेलाइट इमेज से हुआ था. चीन पैंगोंग लेक पर इन पुल का निर्माण इसलिए कर रहा है ताकि उसके सैनिक झील के उत्तर और दक्षिण इलाकों में आसानी से आवागमन कर सकें.

पिछले साल भारत के रक्षा मंत्रालय ने अपनी सालाना रिपोर्ट में खुलासा किया था कि पूर्वी लद्दाख में एलएसी के जिन इलाकों में डिसइंगेजमेंट नहीं हुआ है वहां भारतीय सेना की तैनाती बढ़ा दी गई है. साथ ही एलएसी के दूसरी तरफ चीन के जबरदस्त इंफ्रास्ट्रक्चर और पीएलए की बढ़ी हुई संख्या को देखते हुए भारतीय सेना ने पुनर्गठन के साथ-साथ अपने सैन्य ढांचे में जरूरी बदलाव भी किए हैं.

China is building second bridge near LAC on Pangong Lake, revealed in satellite photos

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *