Type to search

भारत के खिलाफ चीन की बड़ी साजिश, दिल्ली से हिमाचल तक फैलाया जासूसी का जाल

दुनिया देश

भारत के खिलाफ चीन की बड़ी साजिश, दिल्ली से हिमाचल तक फैलाया जासूसी का जाल

Share

पहले दिल्ली और फिर हिमांचल प्रदेश के मंडी से चीनी महिला जासूस की गिरफ्तारी एक बड़ी साजिश का हिस्सा है. केंद्रीय जांच एजेंसियों को पूछताछ के दौरान इनके खतरनाक मकसद का खुलासा हुआ है. दरअसल, इन दोनों महिला जासूसों के टारगेट पर हिंदुस्तान में रहने वाले तिब्बती लोग थे, मकसद था झूठे प्रोपोगंडा या फिर पैसे के दम पर चीन के पक्ष में उनका ब्रेनवाश करना.

दरअसल, इन दोनों चीनी महिला जासूसों के जरिये चीन ने हिंदुस्तान में अगले दलाई लामा के उत्तराधिकारी की नियुक्ति से पहले यहां के बौद्ध मठों में चीनी झूठ का प्रोपेगेंडा फैलाया जा रहा था. हिमांचल और दिल्ली से गिरफ्तार महिला जासूसों से पूछताछ में कई और अहम खुलासे हुए हैं. चीन नए दलाई लामा की नियुक्ति में खुद की दखलअंदाजी चाहता है. ड्रैगन का मकसद है कि अगला दलाई लामा या तो चाइना का हो या फिर प्रो चाइना हो. यही वजह है कि चीन दिल्ली और हिमांचल प्रदेश में बसे तिब्बती समाज के लोगों का ब्रेनवाश करने में जुटे हैं, जिसके लिए वो अपनी इन्हीं महिला जासूसों का इस्तेमाल लम्बे वक़्त से कर रहा था.

स्पेशल सेल की पूछताछ में खुलासा हुआ है कि दिल्ली से गिरफ्तार ये चीनी मूल की महिला भी हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में लंबे वक्त तक रही थी. इस चीनी महिला जासूस का दावा है कि वो बौद्ध धर्म की शिक्षा लेने भारत आई थी. ये महिला दिल्ली होते हुए काठमांडू जाने की फिराक में थी उसके पहले इसको मजनू के टीला इलाके से गिरफ्तार कर लिया गया. महिला के दोनों मोबाइल फोन और इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स फॉरेंसिक जांच के लिए भेजे गए हैं.

कुछ इस तरह की कहानी हिमाचल प्रदेश के मंडी से गिरफ्तार चाइना मूल की महिला जासूस ने पुलिस को बताई. मंडी की एसपी के मुताबिक, महिला चौंतड़ा के प्रसिद्ध जोंगसर मठ तिब्बती मोनिस्टरी में पूजा करने के बहाने सितंबर में आई थी. करीब 24 दिनों से उसने चौंतड़ा में डेरा डाल रखा था. पुलिस ने उससे साढ़े छह लाख की भारतीय और 1.10 लाख की नेपाली करंसी व दो मोबाइल फोन सहित कई संदिग्ध दस्तावेज बरामद किए हैं.

महिला के पास दो पासपोर्ट होने की जानकारी सुरक्षा एजेंसियों की मिली है जबकि महिला रहने वाली चाइना की है पर नेपाल से फर्जी पासपोर्ट के जरिए भारत मे घुसपैठ की. आईबी (IB) समेत देश की कई सेंट्रल एजेंसियों ने दोनों महिलाओं से कड़ी पूछताछ की है. दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल को की गई ये FIR भी मौजूद है, जिसमें लिखा है, ”सेवा में श्रीमान ड्यूटी ऑफिसर, पुलिस स्टेशन स्पेशल सेल Delhi, निवेदन है कि आज मुझे एक विश्वथ सूत्र से इनफार्मेशन प्राफ्त हुई थी कि एक चीनी महिला Cai Ruo जोकि चाइनिज पासपोर्ट नंबर E87857750 से 2019 में भारत की यात्रा की थी और अब नेपाली नागरिकता पर Dolma Lama के नाम से भारत में रह रही है और एंटी-नेशनल एक्टिविटीज में संलिप्त है.

उपरोक्त महिला को रोक कर मैंने उसको अपना व टीम का परिचय इंग्लिश में दिया और उससे उसका परिचय पूछा तो लेडी ने अपना परिचय Dolma Lama, D/o Kami Lama Ro Kathmandu, Nepal के रूप में दिया और एक नेपाली नागरिकता प्रमाण पत्र नंबर 27-01-70-06341, जो इंग्लिश और नेपाली भाषा में है और उस पर Cai Ruo का फोटो है. महिला हिंदी या नेपाली भाषा नहीं जानती है. उपरोक्त महिला ने पूछताछ में माना कि उसको चीनी भाषा आती है और वह 2019 में चीन के पासपोर्ट पर इंडियन वीजा लगवाकर इंडिया आई थी और उसका असली नाम Cai Ruo है और वो चीन के हैनन प्रांत (Hainan Province) की रहने वाली है.

उपरोक्त महिला के पासपोर्ट नंबर E87857750 से इंडिया में ट्रेवल हिस्ट्री चेक करवाई गई, जो FRRO ऑफिस से अब रिप्लाई प्राप्त हुआ है ,जिसमें लिखा है कि पासपोर्ट नंबर E87857750 Cai Ruo D/o Car Minguang, Place of Birth Hainan, Nationality China के नाम जारी है और यह Chinese पासपोर्ट है. इस पासपोर्ट पर Cai Ruo ने इंडियन वीजा पर 16.11.2019 को भारत आई थी और 25.01.2020 को रानीगंज बॉर्डर से नेपाल चली गई थी. महिला Cai Ruo ने अज्ञात व्यक्ति के साथ मिलकर एक फर्जी नाम से एक फर्जी नेपाली नागरिकता प्रमाणपत्र जो कि एक valuable सिक्यूरिटी है को तैयार करकर व उसको प्रयोग कर भारत में बिना वैलिड वीजा के फर्जी नाम से आकर और रहकर अपराध धारा 1208 read with 419/420/467/474 IPC व 14 Foreigners Act का किया है.”

China’s big conspiracy against India, a web of espionage spread from Delhi to Himachal

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *