Type to search

कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने अपनी किताब में लिखा- कमजोर मनमोहन सरकार, मचा घमासान

देश राजनीति

कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने अपनी किताब में लिखा- कमजोर मनमोहन सरकार, मचा घमासान

Share

कांग्रेस में फिर किताबी बम फूटा है। सलमान खुर्शीद के बाद अब कांग्रेस नेता मनीष तिवारी की किताब चर्चा में है। उन्होंने अपनी किताब ’10 फ्लैश पॉइंट; 20 ईयर्स – नेशनल सिक्योरिटी सिचुएशन देट इम्पैक्ट इंडिया’ में मनमोहन सिंह की UPA सरकार पर सवाल खड़े किए हैं। तिवारी ने मुंबई में हुए 26/11 हमले के बाद पाकिस्तान पर किसी तरह का एक्शन न लेने को कमजोरी बताया है।

उन्होंने लिखा कि मनमोहन सरकार को पाकिस्तान के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए थी। उन्होंने लिखा कि एक वक्त आता है, जब कार्रवाई शब्दों से ज्यादा बोलती है। 26/11 वह समय था, जब सख्त कार्रवाई होनी चाहिए थी। इतना ही नहीं अपनी किताब में मनीष तिवारी ने मुंबई हमले की तुलना अमेरिका के 9/11 से करते हुए कहा कि भारत को उस समय अमेरिका की तरह ही जवाबी कार्रवाई करनी चाहिए थी। बता दें कि किताब का नाम 10 Flash Points, 20 Years है।

तिवारी पहले भी कांग्रेस नेतृत्व पर सवाल उठा चुके हैं। उन्होंने कांग्रेस में कन्हैया कुमार की एंट्री पर भी सवाल उठाए थे। साथ में पंजाब में राजनीतिक अस्थिरता को लेकर भी  सवाल उठा चुके हैं। मनीष तिवारी की ओर से की गई टिप्पणी पर मोदी सरकार की ओर से भी हमला किया गया है. 26/11 की स्थिति से निपटने को लेकर मनीष तिवारी की यूपीए सरकार की आलोचना किए जाने पर केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि 26/11 हो या अन्य कोई मामला, देश जानता है कि समग्र स्थिति को कैसे संभाला गया. मैं मामले का राजनीतिकरण नहीं करना चाहता. मोदी सरकार की नीति आतंकवाद के प्रति जीरो टॉलरेंस की है.

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने मनीष तिवारी की नई किताब पर विवाद सामने आने के बाद कांग्रेस पर सवाल खड़े किए हैं. पार्टी प्रवक्ता गौरव भाटिया ने तत्कालीन यूपीए सरकार की नीयत को खराब करार दिया. भाटिया ने कहा कि तत्कालीन एयरचीफ मार्शल ने कहा था कि हमारी एयरफोर्स जवाब देने के लिए तैयार थी, लेकिन कार्रवाई की अनुमति नहीं दी गई. अब कांग्रेस को इस पर जवाब देना चाहिए.

Congress leader Manish Tewari wrote in his book – Weak Manmohan government, there was a ruckus

Share This :
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *