Type to search

चीन में बेकाबू हुआ कोरोना, दवाइयां खत्म, कोल्ड स्टोरेज फुल, श्मशानों में लाशों का अंबार

दुनिया

चीन में बेकाबू हुआ कोरोना, दवाइयां खत्म, कोल्ड स्टोरेज फुल, श्मशानों में लाशों का अंबार

Share
china

चीन में कोरोना ने कोहराम मचा रखा है. हालात इतने बुरे हो चुके हैं कि न तो अस्तपाल बचे हैं और न ही दवाइयां मिल रहीं हैं. श्मशान घाट में वेटिंग लिस्ट चल रही है. सरकार कोरोना से होने वाली मौतों के आंकड़े छिपा रही है. एक दिन पहले ही चीन के एक श्मशान घाट पर कुछ पत्रकार पहुंचे तो पुलिसबलों ने उनको वहां से खदेड़कर भगा दिया. अंतिम संस्कार के लिए लगी लंबी लाइनों को जल्दी से निपटाने के लिए दवाब बनाया जा रहा है. अधिकारियों ने तो यहां तक कहा है कि इस वक्त हालात इतने बुरे हैं कि लाशों को ट्रैक करना भी असंभव है.

सरकार ने जैसे ही कोरोना प्रतिबंधों में ढील दी वैसे ही मामलों में भयंकर उछाल देखा गया. अस्पतालों में एक-एक बेड के लिए लोग संघर्ष कर रहे हैं. मेडिकल स्टोर पूरी तरह से खाली हो चुके हैं. संयुक्त राज्य अमेरिका ने चेतावनी दी है कि प्रकोप अब बाकी दुनिया के लिए चिंता का विषय है. चीन के पूर्वोत्तर से लेकर इसके दक्षिण-पश्चिम तक, श्मशान घाट के कर्मचारियों ने एएफपी एजेंसी को बताया कि इतनी मौतें हो रही हैं कि वो भी परेशान हो गए हैं.

तीन करोड़ आबादी वाला शहर है चोंगकिंग. एक वर्कर ने बताया कि यहां पर अधिकारियों ने इस सप्ताह हल्के कोविड लक्षणों वाले लोगों से काम पर जाने को कहा. एक कर्मचारी ने अपने नाम का खुलासा न करते हुए कहा कि हाल के दिनों में शवों की संख्या पहले की तुलना में कई गुना अधिक बढ़ गई है. शवों को रखने के लिए उनके श्मशान में जगह नहीं थी. उन्होंने कहा कि हम बहुत व्यस्त हैं, शवों के लिए कोल्ड स्टोरेज में भी जगह नहीं है.

दक्षिणी मेगापोलिस ग्वांगझू में ज़ेंगचेंग जिले के एक श्मशान घाट के एक कर्मचारी ने बताया कि वे एक दिन में 30 से अधिक शवों का अंतिम संस्कार कर रहे हैं. शहर के एक अन्य श्मशान घाट ने बताया कि वहां भी एकदम से लाशों में भरमार है. एक और कर्मचारी ने कहा कि यह पिछले वर्षों की तुलना में तीन या चार गुना ज्यादा लाशें आ रही हैं. हम प्रतिदिन 40 से अधिक शवों का अंतिम संस्कार कर रहे हैं. जबकि पहले यह संख्या केवल 12 थी. उन्होंने कहा कि पूरे ग्वांग्झू की ऐसी ही स्थिति है.

पूर्वोत्तर शहर शेनयांग में एक अंतिम संस्कार करने वाले व्यक्ति ने बताया कि बीते पांच दिनों में स्थिति इतनी बिगड़ गई हैं कि शवों को ऐसे ही छोड़ दिया गया था. हम भी परेशान थे करें क्या? श्मशान घाट में लगे वर्कर भी बहुत थक गए हैं. रिपोर्टर ने पूछा कि क्या मौतों का ये आंकड़ा कोविड के कारण हुआ है. उन्होंने कहा कि आपको क्या लगता है? मैंने इस तरह के एक वर्ष को कभी नहीं देखा. जबकि राजधानी बीजिंग में स्थानीय अधिकारियों ने मंगलवार को कोविड -19 से सिर्फ पांच मौतों की जानकारी दी.

अनिवार्य परीक्षण के बाद ने चीन के कोविड मामलों में जबरदस्त उछाल हुआ है. पिछले सप्ताह अधिकारियों ने स्वीकार किया है कि यह बताना अब असंभव है कि कितने लोग बीमार पड़ रहे हैं. बीजिंग के स्वास्थ्य अधिकारियों ने मंगलवार को कहा कि वायरस से होने वाली सांस संबंधी मौतों को भी कोविड मौत के आंकड़ों के तहत गिना जाएगा. पेकिंग यूनिवर्सिटी फर्स्ट हॉस्पिटल के वांग गुईकियांग ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (एनएचसी) की एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा है कि वर्तमान में ओमीक्रोन के नए वेरिएंट BF0.7 से संक्रमित होने के बाद मौत का मुख्य कारण अंदरुनी बीमारियां बनी हुई हैं.

Corona becomes uncontrollable in China, medicines run out, cold storage full, dead bodies pile up in crematoriums

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *