Type to search

झारखंड में बना देश का दूसरा बड़ा शिवलिंग

देश राज्य

झारखंड में बना देश का दूसरा बड़ा शिवलिंग

Share
largest Shivling

देश के दूसरे सबसे ऊंचे कर्नाटक स्थित शिवलिंग के बराबर राजधानी रांची के चुटिया स्थित सुरेश्वरधाम में शिवलिंग की स्थापना की गयी। इसे लेकर 5 दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा अनुष्ठान कार्यक्रम मंगलवार सुबह भव्य कलश यात्रा ( Kalash Yatra in Ranchi ) के साथ शुरू हुआ। कलश यात्रा स्वर्णरेखा धाम चुटिया मंदिर परिसर से पूर्वाह्न 6 बजे प्रारंभ हुआ। हजारों महिलाओं ने माथे पर कलश लेकर यात्रा प्रारंभ की तो ऐसा लगा मानो पूरे चुटिया में भक्तों की अभूतपूर्व भीड़ इकट्ठी हो गई।

पूरे रास्ते में पड़ने वाले घरों के लोगों ने स्वागत किया। सभी महिलाओं ने बनश तालाब बहुबजार में जल भरकर तालाब की परिक्रमा के उपरांत वापस मंदिर परिसर में लौटी,जिसके बाद प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम प्रारंभ किया गया। अक्षय तृतीया पर कलाश यात्रा के अलावा पंचांग पूजन और मंडल प्रवेश का कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। कर्नाटक के कौटिल्य लिंगेश्वर मंदिर में शिवलिंग की ऊंचाई 108 फीट है, उसी तर्ज पर रांची में भी इंजीनियरों की सलाह पर भव्य शिवलिंग की स्थापना की गयी है। इस मंदिर के निर्माण में 10 साल लग गये। शंखनाद होने पर मंदिर के अंदर इसकी आवाज करीब एक मिनट तक गूंजेगी।

करीब दस साल तक चले निर्माण कार्य में सभी बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया और मंगलवार को प्राण प्रतिष्ठा के साथ ही मंदिर में एक बार में 50 लोग बाबा भोलेनाथ पर जलाभिषेक कर सकेंगे। झारखंड में महिला श्रद्धालुओं की 5 किलोमीटर तक की ऐसी ऐतिहासिक भीड़ कभी नहीं देखी गई थी।मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा के लिए बनारस से पुजारी बुलाए गये हैं। मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष सुरेश साहू के नेतृत्व में भव्य कलश शोभा यात्रा निकाली गई जिसमें पद्मश्री मुकुन्द नायक, संतोष सिंह, डा.राजेश गुप्ता , आलोक कुमार दूबे और संतोष कुमार मुख्य रुप से शामिल थे।

म्ंदिर समिति के अध्यक्ष सुरेश साहू ने बताया कि कल 4 मई को पूर्वाहन 7 बजे से अखण्ड रामायण पाठ किया जाएगा और प्रतिष्ठार्थ मूर्तियों का अधिवास, बेदियों की स्थापना तथा अग्नि स्थापना की जाएगी।

Country’s second largest Shivling built in Jharkhand

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *