Type to search

कप-गिलास और नायलॉन बैग हमारे शरीर में पहुंचा रहे प्लास्टिक : स्टडी

जरुर पढ़ें देश

कप-गिलास और नायलॉन बैग हमारे शरीर में पहुंचा रहे प्लास्टिक : स्टडी

Share

अगर आप ओवन में खाना पकाने व गर्म रखने के लिए नायलॉन बैग उपयोग करते हैं या प्लास्टिक की परत वाले कप-गिलास से गर्म पेय पदार्थ ले रहे हैं, तो बहुत संभव है कि इनके साथ कुछ प्लास्टिक कण भी आपके शरीर में पहुंच रहे हैं। अमेरिकी केमिकल सोसाइटी ने अपने ताजा अध्ययन में यह खुलासा किया है। अध्ययनकर्ता क्रिस्टोफर जांगमेइस्टर की यह रिपोर्ट ‘एन्वायर्नमेंट साइंस एंड टेक्नोलॉजी’ जर्नल में प्रकाशित की गई है।

नायलॉन बैग या यह कप आज सामान्यत: उपयोग हो रहे हैं, लेकिन वे हमारे शरीर में प्लास्टिक के लाखों करोड़ की संख्या में प्लास्टिक के नैनो-पार्टिकल भी पहुंचा रहे हैं। क्रिस्टोफर के अनुसार इन्हें सामान्य सीमा के भीतर माना जा रहा है, लेकिन लंबे समय में इनके क्या खतरे हो सकते हैं, यह अभी सामने नहीं आया है। इन बैग व कप से पिया गया करीब आधा लीटर पानी हमारे शरीर की हर 7 कोशिकाओं के अनुपात में 1 प्लास्टिक नैनो पार्टिकल शरीर के भीतर पहुंचा सकता है। यह संख्या अमेरिकी खाद्य व औषधि प्रशासन के नियमों के अनुसार सुरक्षित हैं, हालांकि विशेषज्ञों के अनुसार लंबे अध्ययनों की भी जरूरत है।

पूर्व में हुए अध्ययन दावा करते हैं कि दूध की बोतलें, पॉलीथिन टेरेप्थलेट (पैट प्लास्टिक) से बने टी-बैग आदि प्लास्टिक के माइक्रोस्कोप से ही देखे जा सकने वाले कण छोड़ते हैं। यूरोपीय वैज्ञानिकों ने 22 रक्तदाताओं के सैंपल विश्लेषण में पाया कि 17 के रक्त में पैट प्लास्टिक मौजूद है, जो पेय पदार्थों के पैकेट में उपयोग होता है।

अध्ययनकर्ताओं के अनुसार यह फूडग्रेड प्लास्टिक खाने-पीने की कई चीजों के सीधे संपर्क में आता है। नायलॉन बैग भोजन की नमी बनाए रखते हैं, यह ओवन में भी उपयोग होता है। प्लास्टिक परत वाले कप पेय पदार्थों को लीक होने से बचाते हैं।

Cups, glasses and nylon bags are carrying plastic in our body: Study

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *