Type to search

दहशत की दरार के बाद जोशीमठ पर काले बादलों का डेरा, बर्फबारी से कहीं और न बिगड़ जाएं हालात

देश

दहशत की दरार के बाद जोशीमठ पर काले बादलों का डेरा, बर्फबारी से कहीं और न बिगड़ जाएं हालात

Share
Joshimath

जोशीमठ में भू-धंसाव के बाद अब मौसम की मार लोगों को परेशान कर सकती है. मौसम विभाग ने 12 और 13 जनवरी को जोशीमठ में बारिश होने की आशंका जताई है. जबकि 14 जनवरी को हल्की धूप के साथ बारिश हो सकती है. मौसम विभाग के अनुसार जोशीमठ शहर अगले तीन दिनों में 6mm से 20mm बारिश होने की संभावना जताई है.

मौसम विभाग के निदेशक बिक्रम सिंह के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ यानी वेस्टर्न डिस्टर्बेंस के एक्टिव होने से 11 से 14 जनवरी के बीच जोशीमठ समेत पहाड़ों से लेकर मैदानी इलाकों तक के कई हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है. मौसम विभाग के पूर्वानुमान से लोगों में डर है कि अगर बारिश हुई तो हालात और बिगड़ जाएंगे. यही नहीं पानी के नए स्रोत भी फूट सकते हैं. IMD के अनुसार कल यानी 12 जनवरी को मध्यम बारिश हो सकती है. जिससे भू-धंसाव का खतरा और बढ़ने का अनुमान है.आपको बता दें आपदाग्रस्त जोशीमठ भी चमोली जिले में पड़ता है. यहां पर बारिश और बर्फबारी से दरारों की गहराई बढ़ने और भू-धंसाव बढ़ने से राहत एवं बचाव कार्य में लगे लोगों के लिए दिक्कत हो सकती है.मौसम विभाग ने जिले में येलो अर्लट जारी किया है.

जानकारी के अनुसार जिला प्रशासन ने आपदा और पुलिस प्रशासन को अतिरिक्त सर्तकता बरतने की अपील की है. यातायात एवं लोगों की सेहत के लिए सर्तकता बरतने को कहा है. आपकों बता दें आज यानी 11 जनवरी से जोशीमठ में क्षतिग्रस्त हुई इमारतों को ढहाने का काम शुरू होने वाला था. इसके लिए करीब 700 इमारतों को चिन्हित कर उन पर लाल निशान लगाया गया है. उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के सचिव आर. मीनाक्षी सुंदरम ने आज यानी बुधवार को स्पष्ट किया कि जोशीमठ में भूधंसाव के कारण लटक गए सिर्फ दो होटलों को ही गिराने के आदेश दिए गए हैं और इसके अलावा असुरक्षित घोषित अन्य किसी मकान को फिलहाल नहीं तोड़ा जा रहा है.उन्होंने कहा कि मकानों पर लाल निशान उन्हें खाली करवाने के लिए लगाया गया है.

उन्होंने बताया कि प्रत्येक प्रभावित परिवार को तात्कालिक तौर पर 1.5 लाख रुपये की अंतरिम सहायता दी जा रही है जिसमें 50 हजार रुपये मकान बदलने तथा एक लाख रुपये आपदा राहत मद से अग्रिम धनराशि के रूप में उपलब्ध कराया जा रहा है जो बाद में समायोजित किया जाएगा.अधिकारी ने कहा कि जो लोग किराए के मकानों में जाना चाहते है, उन्हें छह महीने तक चार हजार रुपये प्रतिमाह राशि दी जाएगी.

Dark clouds camp on Joshimath after the crack of panic, the situation should not get worse due to snowfall

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *