Type to search

ICAI की परीक्षा में बेटियों ने मारी बाजी, मध्‍य प्रदेश के मुरैना की नंदिनी बनी CA टॉपर, दूसरे नंबर पर इंदौर की साक्षी

देश बड़ी खबर

ICAI की परीक्षा में बेटियों ने मारी बाजी, मध्‍य प्रदेश के मुरैना की नंदिनी बनी CA टॉपर, दूसरे नंबर पर इंदौर की साक्षी

Share

इंस्टीट्यूट आफ चार्टर्ड अकाउंटेंट आफ इंडिया (ICAI) ने सोमवार को अपनी अंतिम परीक्षा के परिणाम घोषित कर दिए। इसमें शीर्ष के तीन स्थान लड़कियों ने हासिल किए हैं। मध्य प्रदेश के मुरैना की 19 वर्षीय नंदिनी अग्रवाल ने 800 में 614 अंक (76.75 फीसद) हासिल कर टाप किया है। जबकि उनके भाई 21 वर्षीय सचिन अग्रवाल ने देशभर में 18वीं रैंक हासिल की है।

दूसरे स्थान पर इंदौर की साक्षी ऐरन हैं जिन्होंने 613 अंक हासिल किए। तीसरा स्थान हासिल करने वाली बेंगलुरु की बगरेचा साक्षी राजेंद्रकुमार ने 605 अंक हासिल किए। नंदिनी और उनके भाई सचिन दोनों ने इंटीग्रेटेड प्रोफेशनल कंपीटेंसी कोर्स (IPCC) और चार्टर्ड अकाउंटेंट (CA) अंतिम परीक्षा की तैयारी साथ-साथ की। उनके पिता टैक्स कंसल्टेंट हैं। नंदिनी ने बताया, “हमारी रणनीति बिल्कुल साधारण रही। हमने एक दूसरे का सहयोग किया, लेकिन उससे ज्यादा एक दूसरे के आलोचक रहे।

मां डिंपल गुप्ता हाउस वाइफ हैं। नंदिनी बताती हैं कि उनकी मां कॉमर्स में ग्रैजुएट हैं। उनसे ही प्रेरणा लेकर CA बनने का निश्चय किया, चूंकि घर में कॉमर्स का माहौल है, जिससे काफी मदद मिली। 2017 में उसने CA की प्रवेश परीक्षा दी थी। परीक्षा की तैयारी के लिए पिछले साल सितंबर से पढ़ाई पर ज्यादा जोर दिया। रोजाना करीब 14-15 घंटे पढ़ाई करती थी। सोशल मीडिया से पूरी तरह दूरी बना रखी थी।

नंदिनी का कहना है कि गुड़गांव की MNC कंपनी PWC और CW भारत में आर्टिकलशिप की। इस दौरान करीब 7-8 घंटे काम करना पड़ता था। वहां से आने के बाद तीन से चार घंटे ही पढ़ाई हो पाती थी। नंदिनी ने ऑनलाइन क्लासेस लीं। पिछले साल सितंबर से पूरा फोकस पढ़ाई पर किया।

इंदौर की रहने वाली साक्षी बचपन में एस्ट्रोनॉट बनना चाहती थी, लेकिन 10वीं के बाद कॉमर्स विषय लिया, क्योंकि उन्हें बायो पसंद नहीं था। इंजीनियरिंग में स्कोप नजर नहीं आया था, इसलिए उन्होंने कॉमर्स लिया। 12वीं के बाद CA की तैयारी शुरू की। उन्होंने कहा कि अब वे आगामी 2 साल तक कॉर्पोरेट में जॉब करना चाहती हैं। इसके बाद वह MBA की पढ़ाई पर विचार कर रही हैं, हालांकि वह USA के चार्टर्ड फाइनेंशियल एनालिस्ट की भी तैयारी कर रही हैं।

साक्षी ने बताया कि 3 साल की आर्टिकलशिप ट्रेनिंग के दौरान उन्होंने ढाई साल आनंद सकलेचा एंड कंपनी में ट्रेनिंग ली। इसके बाद एक साल से हिंदुस्तान यूनिलीवर में इंडस्ट्रियल ट्रेनी के रूप में ट्रेनिंग ले रही हैं। इसके चलते उन्हें पढ़ाई के लिए काफी टाइम मैनेजमेंट करना पड़ा। CA की पढ़ाई के लिए वह रोजाना सुबह साढ़े 5 बजे से 10 बजे तक पढ़ाई करती। इसके बाद दोपहर में ट्रेनिंग कर शाम को घर लौटतीं। रात 9 बजे से 12 बजे तक दोबारा पढ़ाई करतीं।

बता दें कि सीए फाउंडेशन और अंतिम परीक्षा आईसीएआई द्वारा जुलाई 2021 में आयोजित की गई थी। नई योजना के अनुसार, सीए की ग्रुप- I की अंतिम परीक्षा में 49,358 छात्र शामिल हुए हैं, जिनमें से 9,986 छात्र पास हुए हैं, जबकि ग्रुप- II परीक्षा में कुल 42,203 छात्र शामिल हुए हैं। जिसमें से 7 हजार 328 छात्र पास हुए। दोनों समूहों के लिए उपस्थित होने वाले छात्रों की संख्या 23,981 है, जिसमें से 2,870 उत्तीर्ण हुए हैं।

फाउंडेशन परीक्षा में देशभर से 71 हजार 967 छात्र शामिल हुए थे। जिसमें से 19 हजार 158 छात्र पास हुए हैं। इस परीक्षण का कुल परिणाम 26.62 प्रतिशत है। लड़कों का उत्तीर्ण प्रतिशत 26.08 और लड़कियों का 27.26 रहा।

Daughters outperformed in ICAI exam, Nandini of Madhya Pradesh’s Morena became CA topper, Indore’s witness at number two

Share This :
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Join #Khabar WhatsApp Group.