Type to search

गांबिया में मौतें, WHO की चेतावनी पर भारत का जवाब

दुनिया देश

गांबिया में मौतें, WHO की चेतावनी पर भारत का जवाब

Share
who

विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा अलर्ट जारी किए जाने के बाद हरियाणा मूल की कफ सिरप मैन्युफैक्चरिंग कंपनी चौतरफा घिर गई है. दवाई कंपनी मेडेन फार्मास्युटिकल लिमिटेड द्वारा मैन्युफैक्चर सिरप ने भारत की भी चिंता बढ़ा दी है. हालांकि, ऑल इंडिया ऑर्गेनाइजेशन ऑफ केमिस्ट्स एंड ड्रगिस्ट्स (AIOCD) ने दावा किया है कि इस सिरप का देश में सप्लाई नहीं किया जा रहा था और कंपनी इसे सिर्फ एक्सपोर्ट कर रही थी.

फिर भी इस सिरप के कुछ सैंपल को जांच के लिए भेजे गए हैं. पश्चिमी अफ्रीका के छोटे से देश गाम्बिया में कथित रूप से भारतीय कंपनी द्वारा बनाए गए सिरप के सेवन से 60 से ज्यादा बच्चों की किडनी खराब होने से मौत हो गई है. इसके बाद गाम्बिया ने इस सिरप को वापस लेने के लिए घर-घर एक अभियान शुरु किया है. गाम्बिया के स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि इस सिरप में पर्याप्त मात्राओं में विषैले पदार्थ पाए गए हैं, जिससे बच्चों की किडनी पर बुरा असर पड़ा और यही वजह है कि इसका सेवन करने वाले 66 बच्चे मारे गए.

स्वास्थ्य विभाग ने 23 नमूनों की जांच की, जिसमें चार नमूनों में पर्याप्त मात्रा में विषैले पदार्थ मिले हैं. हालांकि भारत सरकार ने गाम्बिया स्वास्थ्य विभाग के दावों की पुष्टि नहीं की है और रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है. इस बीच हरियाणा की दवाई कंपनी द्वारा मैन्युफैक्चर सिरप की जांच की जा रही है. हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि सोनीपत स्थित दवाई कंपनी द्वारा मैन्युफैक्चर चार कफ सिरप को जांच के लिए भेजा गया है. उन्होंने बताया कि इन कफ सिरप को कोलकाता स्थित सेंट्रल फार्मास्युटिकल लेबरोटरी भेजा गया है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अलर्ट के बाद ही ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने अपनी जांच शुरू कर दी थी.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के चीफ टेड्रोस अधानोम ने सिरप को लेकर अलर्ट जारी करते हुए चेतावनी दी और कहा कि इन बच्चों ने चार दवाई का सेवन किया था, जिससे वे बीमार पड़ गए. डब्ल्यूएचओ ने कहा कि ये चार दवाएं भारत में उत्पादित कफ सिरप हैं. आशंका थी कि इस कफ सिरप का देश में भी सप्लाई किया जा रहा था लेकिन ऑल इंडिया ऑर्गेनाइजेशन ऑफ केमिस्ट्स एंड ड्रगिस्ट्स (AIOCD) एसोसिएशन ने इससे इनकार किया है. केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट्स ऑर्गेनाइजेशन ने साफ किया कि इस कंपनी के कफ सिरप को घरेलू स्तर पर सप्लाई की इजाजत नहीं थी और वे सिर्फ इसका एक्सपोर्ट कर रहे थे. एसोसिएशन ने कहा कि, फिर भी अगर इस संबंध में ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया की तरफ से कोई गाइडलाइन जारी की जाती है, तो उसका पालन किया जाएगा.

Deaths in Gambia, India’s response to WHO warning

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *