Type to search

कांग्रेस के राज्‍यसभा उम्मीदवारों की घोषणा के बाद पार्टी में बढ़ा असंतोष

जरुर पढ़ें देश राजनीति

कांग्रेस के राज्‍यसभा उम्मीदवारों की घोषणा के बाद पार्टी में बढ़ा असंतोष

Share

कांग्रेस पार्टी ने राज्यसभा चुनावों के लिए 10 उम्मीदवारों के नाम की घोषणा की है जिसमें कई प्रमुख नेताओं के नाम गायब हैं। ऐसी स्थिति में पार्टी में असंतोष की आवाज बढ़ रही है। रणदीप सिंह सुरजेवाला, मुकुल वासनिक और प्रमोद तिवारी को राजस्थान से उम्मीदवार बनाया गया है। ये तीनों उम्मीदवार राजस्थान से संबंधित नहीं हैं।

राजस्थान में सिरोही से कांग्रेस के विधायक सान्याम लोधा ने सवाल उठाया है। उन्होंने रविवार को एक ट्वीट में लिखा कि पार्टी को यह समझाना होगा कि राजस्थान से किसी को नामांकित क्यों नहीं किया गया था। कांग्रेस पार्टी को यह बताना चाहिए कि राज्यसभा चुनावों में राजस्थान के किसी भी कांग्रेस नेता या कार्यकर्ता को एक उम्मीदवार नहीं बनाने का क्या कारण है?” राजस्थान के रहने वाले पवन खेड़ा कांग्रेस में राज्यसभा के दावेदार थे, लेकिन उनका नाम भी सूची में शामिल नहीं है। सूची जारी करने के बाद उन्होंने ट्वीट किया कि शायद मेरी तपस्या में कुछ कमी रह गई।

पार्टी के दिग्गजों गुलाम नबी आजाद और आनंद शर्मा को समायोजित करने की अटकलों के विपरीत रविवार को कांग्रेस ने राज्यसभा चुनावों के लिए इमरान प्रतापगढ़ी और रंजीत रंजन जैसे उम्मीदवारों को चुना गया है। पार्टी के अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के एक कवि इमरान प्रतापगढ़ी को महाराष्ट्र से मैदान में उतारा गया है।

राज्‍यसभा उम्मीदवारों की घोषणा के बाद प्रतिक्रिया में कांग्रेस नेता और पूर्व अभिनेत्री नगमा ने ट्विटर पर लिखा कि हमारी 18 साल की तपस्या भी इमरान भाई के सामने कम रह गई। उन्‍होंने लिखा कि हमारी कांग्रेस अध्यक्ष सोनियाजी ने व्यक्तिगत रूप से मुझे 2003-04 में राज्‍यसभा में समायोजित करने के लिए आश्‍वासन दिया था। जब मैं कांग्रेस पार्टी में शामिल हुई थी, उस समय हम सत्ता में नहीं थे, तब से 18 वर्ष हो गया है। इमरान प्रतापगढ़ी महाराष्‍ट्र से राज्‍यसभा की उम्‍मीदवारी पा सकते हैं, मैं पूछ रही हूं कि मैं क्‍या कम योग्य हूं?

इस बीच राजस्थान के भाजपा के प्रमुख सतीश पुनिया ने भी कांग्रेस पार्टी पर तंज कसा है। उन्होंने हिंदी में ट्वीट किया और लिखा कि कांग्रेस की चिंतन शिविर राजस्थान में हुई। अब इस सोच की एक और उपलब्धि देखिए। स्थानीय उम्मीदवारों के कोटे का निरीक्षण करें …. ‘लोकल’ के बिना वो ‘वोकल’ कैसे होगा?” छत्तीसगढ़, हरियाणा और कर्नाटक से राजीव शुक्ला, अजय माकन और जयराम रमेश के उम्‍मीदवारी की घोषणा की गई।

Dissatisfaction in the party increased after the announcement of Congress’s Rajya Sabha candidates

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *