Type to search

डोमिनिका कोर्ट ने मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण पर लगाई रोक

दुनिया देश

डोमिनिका कोर्ट ने मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण पर लगाई रोक

Share
Mehul Choksi

पंजाब नेशनल बैंक घोटाले का आरोपी भगोड़ा हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण की कोशिशों में लगे भारत की उम्मीदों को फिलहाल झटका लगा है। एक खबर के मुताबिक, PNB घोटाला मामले में भारत के भगोड़े मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण पर डोमिनिकाई कोर्ट ने रोक लगा दी है, क्योंकि चोकसी के वकील ने वहां बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की है।

इस मामले की सुनवाई आज फिर होगी। सुनवाई के दौरान मेहुल के वकील ने यह दलील दी कि वे एंटीगुआ के नागरिक है न कि भारत के, इसलिए उन्हें भारत नहीं भेजा सकता। इससे पहले खबर ये आ रही थी कि 13500 करोड़ के पीएनबी घोटाले के आरोपी मेहुल चौकसी को भारत प्रत्यपर्ण कर सकता है डॉमिनिका लेकिन इस मामले में सुनवाई करते हुए डॉमिनिका की अदालत ने साफ कर दिया है कि अगली सुनवाई तक मेहुल चौकसी को कहीं नही भेजा जाएगा।

सूत्रों के मुताबिक सरकार चोकसी को वापस लाने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। पंजाब नेशनल बैंक से 13,500 करोड़ रुपये की कर्ज धोखाधड़ी मामले में चोकसी वांछित है और रविवार को एंटीगुआ और बारबुडा से वह रहस्यमयी परिस्थितियों में लापता हो गया। बाद में उसे अवैध तौर पर प्रवेश करने के लिए डोमिनिका में ‘‘हिरासत’’ में लिया गया। चोकसी के वकीलों ने एंटीगुआ और बारबुडा से उसके भागने के दावे पर सवाल उठाया और कहा कि भारतीय और डोमिनिका के पुलिसकर्मियों की तरह दिखने वाले लोगों ने उसे ‘अगवा’ किया।

बता दें कि बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका बंदी या हिरासत में लिए जाने के खिलाफ नागरिकों के पास एक हथिहार है जो नागरिकों को अपने हितों की रक्षा का लिए कोर्ट में जज के पास जाने का शक्ति प्रदान करता है। हालांकि, यह साबित करना होगा कि उसने कोई गैर-कानूनी काम नहीं किया है। चोकसी के डोमिनिका में पकड़े जाने के बाद एंटीगुआ के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउनी ने कहा कि उन्होंने डोमिनिका को मेहुल चोकसी को सीधे भारत को सौंपने के लिए कहा है।

Share This :
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Join #Khabar WhatsApp Group.