Type to search

किसान आंदोलन : वो 6 मांगें, जिनको लेकर अड़े हैं किसान

जरुर पढ़ें देश

किसान आंदोलन : वो 6 मांगें, जिनको लेकर अड़े हैं किसान

Share

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को तीनों कृषि कानूनों को रद्द किए जाने का ऐलान किया। हालांकि इसके बाद भी किसानों ने आंदोलन जारी रखा है। किसान अपनी 6 सूत्रीय मांगों को लेकर अड़ गए हैं. उन्‍होंने पीएम नरेंद्र मोदी को जारी संदेश में इन मांगों से अवगत कराया कराया है. किसानों ने कहा है कि ‘हम भी चाहते हैं कि जल्द से जल्द इन बाकी मुद्दों का निपटारा कर हम अपने घर, परिवार और खेती बाड़ी में वापस लौटे. अगर आप भी यही चाहते हैं तो सरकार उपरोक्त छह मुद्दों पर अविलंब संयुक्त किसान मोर्चा के साथ वार्ता शुरू करे’ |

संयुक्‍त किसान मोर्चा ने पीएम मोदी को संदेश देते हुए कहा कि ‘आप भली-भांति जानते हैं कि तीन कृषि कानूनों को रद्द करना इस आंदोलन की एकमात्र मांग नहीं है. संयुक्त किसान मोर्चा ने सरकार के साथ वार्ता की शुरुआत से ही तीन और मांगें उठाई थीं, जिनमें पहली थी खेती की संपूर्ण लागत पर आधारित (C2+50%) न्यूनतम समर्थन मूल्य को सभी कृषि उपज के ऊपर, सभी किसानों का कानूनी हक बना दिया जाए, ताकि देश के हर किसान को अपनी पूरी फसल पर कम से कम सरकार द्वारा घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद की गारंटी हो सके.

मोर्चा ने अगली मांग दोहराते हुए कहा कि सरकार द्वारा प्रस्तावित “विद्युत अधिनियम संशोधन विधेयक, 2020/2021” का ड्राफ्ट वापस लिया जाए. साथ ही पीम से कहा कि वार्ता के दौरान सरकार ने वादा किया था कि इसे वापस लिया जाएगा।

किसानों की तरफ से पीएम से आगे कहा गया कि पिछले एक वर्ष में किसान आंदोलन (Kisan Andolan) के दौरान कुछ और मुद्दे भी उठे हैं, जिनका तत्काल निपटारा करना अनिवार्य है… इनमें शामिल हैं, दिल्ली, हरियाणा, चंडीगढ़, उत्तर प्रदेश और अनेक राज्यों में हजारों किसानों को इस आंदोलन के दौरान (जून 2020 से अब तक) हुए केसों को तत्काल वापस लिया जाए.

उन्‍होंने आगे कहा क‍ि, ‘लखीमपुर खीरी हत्याकांड के सूत्रधार और सेक्शन 120B के अभियुक्त अजय मिश्रा टेनी खुले घूम रहे हैं और आपके मंत्रिमंडल में मंत्री बने हुए हैं. वह आपके और अन्य वरिष्ठ मंत्रियों के साथ मंच भी साझा कर रहे हैं. उन्हें बर्खास्त और गिरफ्तार किया जाए’.

इसके अलावा आखिरी मांग में किसानों की तरफ से कहा गया कि इस आंदोलन के दौरान अब तक लगभग 700 किसान शहादत दे चुके हैं. उनके परिवारों के मुआवजे और पुनर्वास की व्यवस्था हो. शहीद किसानों स्मृति में एक शहीद स्मारक बनाने के लिए सिंघु बॉर्डर पर जमीन दी जाए.

Farmers Movement: Those 6 demands, on which farmers are adamant

Share This :
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *