Type to search

SBI ग्रहकों के लिए खुशखबरी! अब FD पर मिलेगा 0.90 फीसदी ज्यादा ब्‍याज

कारोबार जरुर पढ़ें देश

SBI ग्रहकों के लिए खुशखबरी! अब FD पर मिलेगा 0.90 फीसदी ज्यादा ब्‍याज

Share

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के रेपो रेट में बढ़ोतरी करने के बाद से कई बैंकों ने लोन की ब्‍याज दरों में इजाफा किया है. कुछ बैंकों ने फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट (Fixed Deposit) पर दिए जाने वाले ब्‍याज में भी बढ़ोतरी की है. अब देश के सबसे बड़े बैंक, स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने भी बल्‍क फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट की ब्‍याज दरों को बढ़ा दिया है. ब्‍याज दरों में 40 से 90 बेसिस प्‍वाइंट्स की बढ़ोतरी की गई है. बढ़ी हुई दरें आज 10 मई से लागू हो गई हैं.

एसबीआई ने 2 करोड़ या इससे ज्‍यादा राशि की फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट की ब्‍याज दरें (SBI FD interest Rate) बढ़ाई हैं. एसबीआई की वेबसाइट के अनुसार 2 करोड़ या इससे ऊपर की 3 से पांच और 5 से 10 साल की अवधि वाली फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट की ब्‍याज दरों में 90 बेसिस प्‍वाइंट की बढ़ोतरी की गई है. अब 4.50 फीसदी की वार्षिक दर से ब्‍याज मिलेगा जबकि पहले यह दर 3.60 फीसदी थी.

इसी तरह 2-3 साल की अवधि वाली फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट की ब्‍याज दरों को भी 3.60 फीसदी वार्षिक से बढ़ाकर 4.25 फीसदी कर दिया गया है. इस तरह ऐसी एफडी जो 1 से 2 साल में मेच्‍चोर होगी उस पर अब एसबीआई 4 फीसदी वार्षिक दर से ब्‍याज देगा. पहले 3.60 फीसदी की दर से ब्‍याज दिया जाता था.

स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया अब 46-179 दिन और 180-210 दिन की अवधि वाली फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट पर 3.50 फीसदी की वार्षिक दर से ब्‍याज देगा. 211 दिन से एक साल से कम अवधि वाली फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट पर बैंक अब 3.75 फीसदी ब्‍याज देगा. नई ब्‍याज दरें नई फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट और मेच्‍चोर होने पर रिन्‍यू कराई जाने वाली एफडी पर लागू होंगी.

भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा रेपो रेट में बढ़ोतरी किए जाने के बाद बंधन बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक, जना स्‍माल फाइनेंस बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, आईसीआईसीआई बैंक और पंजाब नेशनल बैंक फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट की ब्‍याज दरें बढ़ा चुके हैं. बजाज फाइनेंस ने भी फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट की ब्‍याज दर में 10 बेसिस प्‍वांइट्स की बढ़ोतरी की है. यह ब्‍याज दर 36 से 60 महीनों में मेच्‍योर होने वाली एफडी पर लागू होगी.

Good news for SBI customers! Now 0.90% interest will be available on FD

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *