Type to search

सरकार शुरू करेगी ‘भारत गौरव ट्रेन’, ले सकते है लीज़ पर; यात्रियों को लोकल ट्रांसपोर्ट, होटल की सुविधाएं

जरुर पढ़ें देश

सरकार शुरू करेगी ‘भारत गौरव ट्रेन’, ले सकते है लीज़ पर; यात्रियों को लोकल ट्रांसपोर्ट, होटल की सुविधाएं

Share

रेल मंत्री अश्विन वैष्णव ने मंगलवार को ‘भारत गौरव’ ट्रेन शुरू करने की घोषणा की। देश में 180 से ज्यादा भारत गौरव ट्रेनें चलाई जाएंगी। खास बात यह है कि अब प्राइवेट प्लेयर भी ट्रेन को लीज पर ले सकेंगे। इसके बाद ट्रेन अपनी पसंद के किसी भी सर्किट पर दौड़ सकेगी। ट्रेन का रूट, किराया और सेवा की गुणवत्ता अपने तरीके से तय कर सकेंगे।

सोसाइटी, ट्रस्ट, कंसोर्टियम और यहां तक ​​कि राज्य सरकार भी इस ट्रेन को लीज़ पर लेने के लिए आवेदन कर सकती है और इसे थीम पर आधारित स्पेशल टूरिज्म सर्किट पर चला सकते है। रेलवे ने कहा कि थीम्ड टूरिज्म का मतलब है गुरु कृपा जैसी ट्रेन, जो गुरु नानकजी से जुड़े सभी जगहों पर जाती है, रामायण थीम वाली ट्रेन जो भगवान राम से जुड़ी जगहों पर जाती है.

रेल सेवा में एक और नया सेगमेंट
योजना का शुभारंभ करते हुए रेल मंत्री ने कहा, “भारत गौरव ट्रेन सेवा में एक और नया सेगमेंट होगा। हमारे देश में इतनी सांस्कृतिक विरासत है। यह ट्रेन पर्यटकों को सांस्कृतिक विरासत के स्थानों तक ले जाएगी। इस ट्रेन का मुख्य उद्देश्य पर्यटन को बढ़ावा देना है। इससे पहले यात्री और मालगाड़ी सेगमेंट की शुरुआत हुई थी।

180 से अधिक ट्रेनों का आवंटन
रेल मंत्री ने कहा, “हमने भारत गौरव ट्रेन के लिए 180 से अधिक ट्रेनों का आवंटन किया है, जिसमें 3033 कोच होंगे। ट्रेन के संचालन के लिए आवेदन प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। हमें अच्छा रिस्पोंस मिला है।’ उन्होंने कहा, ‘स्टेकहोल्डर ट्रेन को मॉडिफाय करके संचालित करेगा। रेलवे रखरखाव, पार्किंग और अन्य सुविधाओं में उनकी मदद करेगा।’

भारत गौरव ट्रेन को लीज़ पर लेने की प्रक्रिया

  • ट्रेन को लीज पर लेने के लिए 1 लाख रुपये की वन टाइम फीस के साथ रजिस्ट्रेशन कराना होता है।
  • सभी आवेदकों को कोचों का आवंटन ‘फर्स्ट कम, फर्स्ट गेट’ के आधार और उपलब्धता पर निर्भर करेगा।
  • रैक सिक्योरिटी डिपॉज़िट जमा करने के समय एवं तिथि के आधार पर प्राथमिकता दी जायेगी।
  • संचालक को प्रति रैक 1 करोड़ रुपये की डिपॉज़िट रकम जमा करनी होगी।
  • इंडिविज़्युअल, पार्टनरशिप फर्म, कंपनी, सोसाइटी, ट्रस्ट, जैसे/ कंसोर्टियम (अनइंकॉर्पोरेटेड/इनकॉरपोरेटेड) सब आवेदन कर सकते है।

प्रत्येक ट्रेन में 14-20 कोच होंगे

  • ट्रेन को 2-10 साल के लिए लीज पर लिया जा सकता है।
  • प्रत्येक ट्रेन में दो गार्ड वैन सहित 14-20 कोच होंगे।
  • रेलवे सिर्फ होलोकॉस्ट चार्ज और राइट टू यूज फीस लेगा।
  • ऑपरेटर की सुविधा के लिए रेलवे जोन में स्पेशल यूनिट लगाई जाएगी।
  • ट्रेन के अंदर और बाहर ब्रांडिंग और विज्ञापन के लिए ऑपरेटरों को मंजूरी होगी।

भोजन, स्थानीय परिवहन, होटल जैसी सुविधाएँ

  • यात्रियों के पास लग्जरी, बजट कोच का विकल्प होगा।
  • ट्रेन संचालकों को स्टॉपओवर स्थानों पर दर्शनीय स्थलों की यात्रा, भोजन, स्थानीय परिवहन, होटल की सुविधा उपलब्ध करानी होगी।
  • ऑपरेटर को ऑनबोर्ड एंटरटेनमेंट जैसी सुविधाएं भी देनी होंगी।

Government will start ‘Bharat Gaurav Train’, can take it on lease; Local transport, hotel facilities to passengers

Share This :
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *