Type to search

मोदी का मन : 10 अहम बातें

देश बड़ी खबर राजनीति

मोदी का मन : 10 अहम बातें

Share

अक्षय तृतीया और रमजान के मौके पर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को सुबह 11 बजे ‘मन की बात’ कार्यक्रम के जरिए लोगों को संबोधित किया। हर महीने के आखिरी रविवार को प्रसारित होने वाले ‘मन की बात’ रेडियो कार्यक्रम का यह 64वां संस्करण था। इस दौरान पीएम मोदी ने उम्मीद जताई कि अगले मन की बात तक दुनिया भर में कोरोना वायरस से राहत की ख़बर मिलेगी।

पीएम के मन की 10 अहम बातें

  1. जब पूरी दुनिया इतने बड़े संकट का सामना कर रही है, तो इस बार रमजान को धैर्य, सद्भाव, संवेदनशीलता और सेवा का प्रतीक बनाने का एक अवसर है। जिससे पूरी दुनिया में लोगों को एक खास संदेश जाएगा।
  2. आज अक्षय तृतीया है। जिसे समाप्त या नष्ट नहीं किया जा सकता है वह है ‘अक्षय’। यह दिन हमें याद दिलाता है कि हम चाहे कितनी भी रुकावट और बीमारियों का सामना करें, उनसे लड़ने की हमारी भावना अक्षय है।
  3. हमारे किसानों की कड़ी मेहनत के कारण, हम सभी के पास अन्न के भंडार हैं; यदि हम अक्षय बने रहना चाहते हैं, तो हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हमारी पृथ्वी अक्षय हो।
  4. इन हालातों में भी हमने एक तरफ हमने अपनी जरूरतें पूरी की तो दूसरे देशों की भी मदद कर मानवता भी दिखाई।
  5. भारत में कोरोना के खिलाफ लड़ाई जनता लड़ रही है, आप लड़ रहे हैं। जनता के साथ मिलकर शासन-प्रशासन लड़ रहा है।
  6. हम भाग्यशाली हैं कि आज पूरा देश, देश का हर नागरिक, जन-जन इस लड़ाई का सिपाही है और लड़ाई का नेतृत्व कर रहा है। आज पूरा देश, एक लक्ष्य, एक दिशा के साथ आगे बढ़ रहा है।
  7. इस महामारी के बीच में किसान यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि हमारे देश में कोई भी भूखा न सोए। प्रत्येक व्यक्ति अपनी क्षमता के अनुसार इस महायज्ञ में योगदान कर रहा है। कोई घर का किराया माफ कर रहा है, तो कोई कोई हर रोग गरीबों को मुफ्त भोजन करा रहा है।
  8. COVID-19 ने हमारी कार्य शैली, जीवन शैली और आदतों में कई सकारात्मक बदलाव लाए हैं; आप देखेंगे कि मुखौटा सभ्य समाज का प्रतीक बन जाएगा।
  9. कोरोना वायरस ने हमें कई तरह से जागरूक किया है। एक और जागरूकता जो आई है वह है सार्वजनिक रूप से थूकने का नुकसान। अब समय आ गया है कि इस बुरी आदत को हमेशा के लिए मिटा दिया जाए।
  10. आज दुनिया भर में लोग भारत के योग और आयुर्वेद की ओर देख रहे हैं; मुझे यकीन है कि आप आयुष मंत्रालय द्वारा प्रतिरक्षा बढ़ाने वाले प्रोटोकॉल का अभ्यास कर रहे होंगे।
Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *