Type to search

आप शेर हैं या भेड़ ?

बड़ी खबर मनोरंजन

आप शेर हैं या भेड़ ?

Share

संजय दत्त, आलिया भट्ट और आदित्य राज कपूर की फिल्म सड़क 2 को यूट्यूब पर अब तक 1.58 करोड़ लोगों ने देखा है।

इसे लाइक किया है 2.75 लाख और डिसलाइक बटन दबाने वाले हैं 49 लाख। 2010 में यूट्यूब ने स्टार रेटिंग की जगह लाइक और डिसलाइक बटन लांच किया था। औसत डिसलाइक के पैमाने पर 94.66% के साथ ये ट्रेलर दुनिया में सबसे ज्यादा डिसलाइक किया गया वीडियो बन चुका है।

यूट्यूब पर सबसे ज्यादा डिसलाइक्ड वीडियो

रैंकवीडियो का नामकिसका वीडियोडिसलाइक( 10 लाख में)डिसलाइक%
1.YouTube Rewind 2018: Everyone Controls RewindYouTube18.1886.34%
2.Babyकनाडा के गायक Justin Bieber11.5744.73%
8Sadak 2 Trailerडायरेक्टर महेश भट्ट4.994.66%

                   ट्रेलर के ट्रोलर

ये कौन लोग हैं जो फिल्म के ट्रेलर को इतनी बड़ी तादाद में डिसलाइक कर रहे हैं।

  1. सुशांत सिंह राजपूत के फैन्स – देश में खास कर बिहार में सुशांत सिंह राजपूत के फैन्स की बहुत बड़ी तादाद हैं। ये फैन्स चाहते हैं कि सुशांत की मौत का सारा सच सामने आए। महेश भट्ट से कई लोग इस बात से नाराज हैं क्योंकि मीडिया उन्हें रिया चक्रवर्ती के मेंटोर के तौर पर पेश कर रहा है। उनकी बेटी आलिया भट्ट जो इस फिल्म की लीड एक्ट्रेस हैं, उनको औसत बुद्धि करार देने वाले कई मीम्स पहले भी ट्वीट होते रहे हैं। अब ये कहा जा रहा है कि आलिया ने सुशांत की एक्टिंग की कद्र नहीं की थी।
  2. ट्रोल आर्मी – हमारे यहां देश की बड़ी राजनीतिक पार्टियां जैसे बीजेपी और कांग्रेस के अपने-अपने IT Cell हैं, जिसका इस्तेमाल वो राजनीतिक विरोधियों का मखौल उड़ाने में करते हैं। सड़क 2 के ट्रेलर आने के पहले से ही सोशल साइट्स पर ट्रोल आर्मी ने इसके ट्रेलर को मोस्ट डिसलाइक्ड वीडियो बनाने के लिए कैंपेन चलाया, जिसका कई लोगों ने समर्थन किया तो कुछ लोगों ने विरोध भी जताया।

लेकिन ये कहानी सिर्फ एक ट्रेलर को लाइक और डिसलाइक करने की नहीं है। इसके जरिए सिनेमा की दुनिया से जुड़े सभी तरह के लोगों को ये संदेश भी जा रहा है कि आज एंटरटेनमेंट एक सीरियस बिजनेस है…और आपका करियर हमारे लिए सिर्फ एक एंटरटेनमेंट है … आप अगर अभिव्यक्ति की आजादी का इस्तेमाल कर  पार्टी या सरकार के खिलाफ कुछ बोलते हैं तो इसकी एक कीमत है जो आपको चुकाने के लिए तैयार रहना चाहिए। आपका एक बयान आपका करियर खत्म कर सकता है।

क्यों गलत है ट्रोलिंग ?

फेसबुक, ट्वीटर, इंस्टाग्राम या यूट्यूब पर ट्रोलिंग सिर्फ किसी खास व्यक्ति का ही विरोध नहीं है, ये समाजविरोधी है, क्योंकि ये समाज मे संवाद की स्वाभाविक और स्थापित प्रक्रिया को बाधित करता है। ये असंवैधानिक है, क्योंकि ये विरोध का स्वर रखने वालों की अभिव्यक्ति की आजादी का हक छीनता है। ये जन विरोधी भी है, क्योंकि एक पार्टी, संगठन या खास विचारधारा को देश या समाज की पूर्ण स्वीकार्य राय के तौर पर पेश करता है। ये खास तौर पर नागरिक विरोधी है क्योंकि ट्रोलिंग के जरिए अलग राय रखने वाले नागरिक को खास तौर पर निशाना बनाया जाता है। कला के नजरिए से इसमें हास्य है जो दूसरे को दर्द पहुंचाने से हासिल होता है। तकनीक के तौर पर स्मार्टफोन की दुनिया में ये इंटरनेट का नया स्मार्ट वीपन है। एक अदृश्य सेना है, जिसकी पहचान मुश्किल है। इसके पास मकसद तो है, लेकिन समाज के नियम, कानून, और नैतिकता से इसका कोई नाता नहीं है। दुनिया के ज्यादातर देशों में alt-right का ये सबसे बड़ा हथियार है।

अगला निशाना आप हो सकते हैं

Pew Research Center के सर्वे से पता चला कि अमेरिका में 2018 में 18 से 24 साल उम्र के 70% लोग सोशल साइट्स पर परेशान किए जा चुके हैं।

कैसे होते हैं वो लोग जो ट्रोल करते हैं?

ट्रोलिंग करने वाले ज्यादातर मर्द होते हैं। उनमें दूसरों का दर्द समझने की कम क्षमता होती है, उनमें अपराध बोध नहीं होता और अपने किए की जिम्मेदारी कबूल करने से वो कतराते हैं। उन्हें दूसरों को दर्द में देख कर खुशी मिलती है। ज्यादातर मामलों में वो ईमान नहीं महज इनाम के लिए इसे अंजाम देते हैं। ये एक तरह का नशा है जो धीरे-धीरे लत में बदल जाता है। नतीजा मिडल ईस्ट में सामने आया जहां कई भारतीयों की नौकरी इसलिए छिन गई, क्योंकि उन्होंने फेसबुक या ट्वीटर पर  हेट पोस्टिंग की थी।

जिन्हें ट्रोल किया जाता है उन पर क्या बीतती है?

जिन्हें ट्रोल किया जाता है, उन पर इसका गहरा असर होता है। उनमें आत्मविश्वास की कमी होने लगती है,  तनाव, अवसाद और नींद मे कमी आना सामान्य बात है। कुछ मामलों में ज्यादा संवेदनशील लोग सुसाइड तक कर लेते हैं।

अगर आपको कोई फिल्म, उसका ट्रेलर, कोई ऐक्टर या सिंगर नहीं पसंद है तो आपको अपनी राय का जरूर इजहार करना चाहिए, लेकिन ये राय आपकी अपनी होनी चाहिए।

 याद रखिए ट्रोलर्स आपसे केवल एक चीज चाहते हैं …आपका ध्यान …उन पर ध्यान नहीं दीजिए, वो सदमे से दफन हो जाएंगे।

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *