Type to search

झारखंड सरकार की अग्नि परीक्षा आज, चंपई के पास है नंबर या होगा गेम ओवर?

राजनीति राज्य

झारखंड सरकार की अग्नि परीक्षा आज, चंपई के पास है नंबर या होगा गेम ओवर?

Share on:

लैंड स्कैम मामले में झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी के बाद चंपई सोरेन ने गठबंधन सरकार की बागडोर संभाली है. आज से झारखंड विधासनभा का दो दिवसीय सत्र है. आज ही विधानसभा में विश्वास मत पेश किया जाएगा. विधानसभा के सत्र में भाग लेने के लिए झारखंड के विधायक रविवार की रात को झारखंड पहुंचे और रात को रांची सर्किट हाउस में रहे. वहीं से सभी आज सीधे विधानसभा जाएंगे. वहां विश्वास प्रस्ताव पर चर्चा होगी, लेकिन उसके पहले झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के विधायक लोबिन हेम्ब्रोम की बगावत और तीन विधायकों के नदारद रहने से अटकलें तेज हो गई हैं. यह कहा जा रहा है कि क्या चंपई सरकार के पास नंबर है या फिर कल गठबंधन सरकार का गेम ओवर हो जाएगा?

बता दें कि झारखंड में कुल विधायकों की संख्या 81 है और विधानसभा का जादुई नंबर 41 है. चंपई सरकार के पास 48 विधायक हैं. इनमें जेएमएम के 29, कांग्रेस के 16, राजद के 1 और सीपीआई (लिबरेशन) के एक विधायक हैं. फिलहाल चंपई सोरेन को कुल 43 विधायकों का समर्थन प्राप्त है. बिशुनपुर से जेएमएम विधायक चमरा लिंडा ने बगावती तेवर अपना लिए हैं. तीन और विधायकों की स्थिति साफ नहीं है. गठबंधन का दावा है कि वे बीमार हैं. उनके गायब होने से ही संशय बना हुआ है. इसके बाद यह सवाल उठ रहे हैं कि विश्वास मत के दौरान झारखंड मुक्ति मोर्चा और गठबंधन के कितने विधायक विधानसभा में हाजिर रहेंगे और कितने सरकार बचाने के लिए मतदान करेंगे.

हाल ही में पड़ोसी राज्य बिहार में सरकार बदल गई. एनडीए गठबंधन के मुख्यमंत्री के रूप में नीतीश कुमार के शपथ ग्रहण समारोह में बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष जेपी नड्डा खुद शामिल हुए थे. उससे कुछ महीने पहले महाराष्ट्र में भी इसी बीजेपी विरोधी गठबंधन की सरकार गिरती हुई नजर आई थी. कुछ दिन पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दावा किया था कि बीजेपी उनके सात विधायकों को 25-25 करोड़ रुपये में खरीदने की कोशिश कर रही है. ऐसे में विपक्ष ने नये मुख्यमंत्री की सरकार को झारखंड में भी संख्यात्मक श्रेष्ठता साबित करने की चुनौती दी है. हालांकि, सतर्क झामुमो ने कोई जोखिम नहीं उठाया और गठबंधन सरकार के 40 विधायकों को हैदराबाद के एक रिसॉर्ट में भेज दिया.

इस बीच, चंपई सोरेन का समर्थन करने वाले विधायकों में असंतोष का सुर उठ रहा है. झामुमो के एक विधायक लोबिन हेम्ब्रोम ने पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की खुलेआम आलोचना की, जिनके इस्तीफे से नई सरकार का गठन शुरू हुआ. इसके अतिरिक्त, तीन और विधायक कथित तौर पर लापता है, जिससे गठबंधन के बहुमत की मजबूती के बारे में चिंताएं बढ़ गई हैं. हालांकि फिलहाल हिरासत में बंद हेमंत सोरेन भी विशेष अदालत की सहमति से फ्लोर टेस्ट में शामिल होंगे.

दूसरी ओर, बीजेपी के विधायकों की संख्या 25 विधायक और ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन (AJSU), यानी आजसू के तीन विधायक, एनसीपी एवं एक वामपंथी दल के पास एक-एक विधायक है. इसके साथ ही तीन निर्दलीय विधायक भी हैं सत्ता गठबंधन के पास बहुमत से चंद विधायक ही अधिक हैं. ऐसे में जेएमएम की चिंता बढ़ी हुई है. हालांकि सत्ता गठबंधन के नेता इस बात पर जोर देते रहे हैं कि उनके पास सरकार बनाने के लिए पर्याप्त विधायक हैं. चंपई सोरेन ने रविवार को कानून व्यवस्था की की समीक्षा की. पार्टी विधायकों का कहना है कि 43 विधायकों की सूची राज्यपाल को दी गई थी. यह आंकड़ा 46-47 तक पहुंच जाएगा. सरकार को कोई खतरा नहीं है.

Asit Mandal

Share on:
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *