Type to search

Jharkhand का पहला मनरेगा पार्क

राज्य

Jharkhand का पहला मनरेगा पार्क

Share
Jharkhand's first MNREGA park

झारखंड का ईटा- चिन्द्री गांव मनरेगा (MNREGA) योजनाओं का केंद्र बन गया है। यहां मनरेगा की दस से ज्यादा योजनाएं धरातल पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराती दिख रही हैं। सरकार ने इस गांव को मनरेगा पार्क घोषित कर दिया है। ग्रामीणों को यहां महीने में कम से कम 20 दिन रोजगार की गारंटी है। एक ऐसा पार्क जहां सरकार की योजनाएं धरातल पर उतर रही हैं और ग्रामीणों के वर्तमान से लेकर भविष्य को संवारने में लगा है।

सरकार की इच्छा शक्ति और ग्रामीणों की मदद से मनरेगा की दस से ज्यादा योजनाएं आपको यहां दिख जाएंगी। सिंचाई कूप, डोभा, दीदी बाड़ी, वर्मी कम्बोस्ट, आम बागवानी, टीसीबी सहित अन्य मनरेगा से संचालित योजनाएं यहां धरातल पर उतर चुकी हैं। मनरेगा से रोजगार पाने वाले बिरसा और कारण उरांव बताते हैं कि पहले तन ढकने के लिए भी पैसे नहीं होते थे। परिवार चलाने में काफी दिक्कत होती थी।

एक- एक पैसे के लिये दूसरों के सामने हाथ फैलाना पड़ता था। आज समय बदल गया है और अब तो घर में मोटरसाइकिल आ गई है। बेड़ो बीडीओ प्रवीण कुमार के अनुसार 40 एकड़ भूमि पर मनरेगा की 10 योजनाएं ग्रामीणों की मेहनत और सरकार की सोच का उदाहरण पेश कर रही है। इसे पर्यावरण के विकास और ग्रामीणों के आर्थिक- सामाजिक विकास के साथ जोड़ कर भी देखा जा रहा है।

Share This :
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Join #Khabar WhatsApp Group.