Type to search

स्वास्थ्य सेवाओं के मामले में केरल नंबर 1 : हेल्थ इंडेक्स

जरुर पढ़ें देश

स्वास्थ्य सेवाओं के मामले में केरल नंबर 1 : हेल्थ इंडेक्स

Share

कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने देश की स्वास्थ्य व्यवस्थाओं की पोल खोलकर रख दी थी। अब देश की स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को लेकर नीति आयोग ने स्वास्थ्य सूचकांक जारी किया है। नए सूचकांक के मुताबिक, बड़े राज्यों में, सभी मानकों पर स्वास्थ्य के क्षेत्र में केरल को सर्वोच्च स्थान प्राप्त हुआ है जबकि उत्तर प्रदेश सबसे निचले पायदान पर है।

चौथे स्वास्थ्य सूचकांक में 2019-20 (संदर्भ वर्ष) की अवधि को ध्यान में रखा गया है। सरकारी थिंक टैंक की रिपोर्ट में कहा गया है कि तमिलनाडु और तेलंगाना स्वास्थ्य मानकों पर क्रमशः दूसरे और तीसरे सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्यों के रूप में उभरे हैं। स्वास्थ्य मानकों के मामले में बिहार और मध्य प्रदेश क्रमश: दूसरे और तीसरे सबसे खराब प्रदर्शन करने वाले राज्य हैं। हालांकि रिपोर्ट में कहा गया है कि उत्तर प्रदेश आधार वर्ष (2018-19) से संदर्भ वर्ष (2019-20) में प्रदर्शन सुधारने में शीर्ष पर है।

बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं देने के मामले में छोटे राज्यो में मिजोरम पहले पायदान पर रहा, जबकि दूसरे नंबर पर त्रिपुरा और नागालैंड सबसे आखिरी पायदान पर रहा। वहीं, केंद्र शासित प्रदेशों में दादरा नगर हवेली पहले और दूसरे नंबर पर चंडीगढ़ है। जबकि केंद्र शासित प्रदेशों में स्वास्थ्य के क्षेत्र में दिल्ली एवं जम्मू कश्मीर ने सभी मानकों पर निचला स्थान प्राप्त किया और वार्धिक प्रदर्शन में सबसे ऊंचा स्थान प्राप्त किया। रिपोर्ट में कहा गया है कि केरल लगातार चौथे दौर में समग्र प्रदर्शन के मामले में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाला देश बनकर उभरा है।

रिपोर्ट के अनुसार, उच्चतम संदर्भ वर्ष (2019-20) सूचकांक स्कोर के साथ समग्र प्रदर्शन के मामले में केरल और तमिलनाडु शीर्ष दो प्रदर्शनकर्ता हैं, लेकिन वार्धिक प्रदर्शन के मामले में क्रमशः बारहवें और आठवें स्थान पर हैं। तेलंगाना ने समग्र प्रदर्शन के साथ-साथ वार्धिक प्रदर्शन में भीअच्छा प्रदर्शन किया और दोनों उदाहरणों में तीसरा स्थान हासिल किया। वहीं राजस्थान समग्र प्रदर्शन व वृद्धिशील प्रदर्शन दोनों के मामले में सबसे कमजोर राज्य रहा।

रिपोर्ट के अनुसार, स्वास्थ्य सूचकांक एक भारित समग्र स्कोर है जिसमें स्वास्थ्य प्रदर्शन के प्रमुख पहलुओं को शामिल करते हुए 24 संकेतक शामिल हैं।स्वास्थ्य सूचकांक में तीन क्षेत्रों में चुनिंदा संकेतक शामिल हैं – स्वास्थ्य परिणाम, शासन और सूचना, और प्रमुख इनपुट और प्रक्रियाएं। विश्व बैंक की तकनीकी सहायता से स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के सहयोग से यह रिपोर्ट तैयार की गई है।

Kerala No. 1 in health services: Health Index

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *