Type to search

अब सामने आ रहे Long Covid के मामले, शरीर में 5-6 महीने तक दिखते हैं लक्षण

कोरोना

अब सामने आ रहे Long Covid के मामले, शरीर में 5-6 महीने तक दिखते हैं लक्षण

Share
long covid

भारत में कोरोना संक्रमण की बेकाबू रफ्तार पर ब्रेक लगता दिखाई दे रहा है। देश के लगभग 50 दिन के बाद आज सबसे कम नए मामले सामने आए हैं। महाराष्ट्र, दिल्ली, उत्तर प्रदेश समते कई राज्यों में नए कोरोना केसों में लगातार गिरावट आ रही है। देश में बीते 24 घंटे में कोरोना के 1,52,734 नए केस सामने आए और 3128 से अधिक कोविड मरीजों की मौत हुई है। नए आंकड़ों के साथ ही देश में कोरोना संक्रमित के कुल मामले 2,80,47,534 हो चुके हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश में फिलहाल 20,26,92 कोरोना के एक्टिव केस हैं और मरने वालों की कुल संख्या 3,29,100 दर्ज की गई है। रिपोर्ट की माने तो अबतक इस वायरस से 2,56,92,342 लोग रिकवर कर चुके हैं। देश में कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर अपने साथ नए-नए संकट ले आ रही है। अब कुछ मरीजों में यह भी पाया गया है कि रिकवर होने के बाद भी उनमें 5-6 महीने तक कोरोना के लक्षण पाए जा रहे हैं। मेडिकल टर्म में इस स्थिति को लॉन्ग कोविड का नाम दिया गया है।

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान- एम्स के कोविड एक्सपर्ट डॉ नीरज निश्चल के अनुसार ऐसा सिर्फ भारत में ही नहीं है। भारत के अलावा कई अन्य देशों में भी मरीजों के ठीक होने के बाद लंबे समय, करीब 5-6 महीने तक लक्षण देखे जाते हैं। ऐसी परिस्थिति उन मरीजों के साथ ज्यादा जिनकी हालत संक्रमण के दौरान ज्यादा खराब थी और जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। ऐसे मरीजों में लॉन्ग कोविड देखा गया है।

उन्होंने कहा कि देश-विदेश के करीब 20 फीसदी मरीज लॉन्ग कोविड से पीड़ित हैं। डॉक्टर के अनुसार, ना सिर्फ गंभीर बल्कि जिन मरीजों में कोरोना के हल्के लक्षण थे, उनमें भी लॉन्ग कोविड की समस्या देखी जा रही है। उन्होंने कहा कि लोगों के ठीक होने के बाद भी करीब पांच हफ्ते बाद भी सबसे अधिक समस्या थकान की पायी जा रही है। एक आंकड़े के अनुसार 11.8 फीसदी में लोगों में रिकवर होने के बाद थकान के लक्षण देखे गए। वहीं 10.9 फीसदी लोगों में कफ के लक्षण लंबे समय तक बना रहे। यह लक्षण काफी सामान्य है.इसके साथ ही 6.4 फीसदी लोगों में स्वाद की कमी, 6.3 फीसदी लोगों में सुगंध, 6.2 फीसदी लोगों के गले में दर्द और 5.6 फीसदी लोगों में सांस लेने की भी दिक्कत सामने आई है। कई मरीजों में यह लक्षण रिकवर होने के बाद कुछ हफ्तों से लेकर 5-6 महीने तक बने रहते हैं।

रिपोर्ट के अनुसार डॉक्टर ने बताया कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली स्थित एम्स में भी लॉन्ग कोविड के मरीजों का डेटा तैयार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कुछ मरीजों को रिवकर होने के बाद भी बुखार आ जाता है, ऐसे में वह परेशान हो जाते हैं कि उन्हें कहीं दोबारा कोविड ना हो गया हो। 

Share This :
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Join #Khabar WhatsApp Group.