Type to search

गलवान में शहीद कर्नल संतोष बाबू महावीर चक्र से सम्मानित, 5 जवानों को वीर चक्र

जरुर पढ़ें देश

गलवान में शहीद कर्नल संतोष बाबू महावीर चक्र से सम्मानित, 5 जवानों को वीर चक्र

Share

लद्दाख सेक्टर में गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ संघर्ष में शहीद हुए कर्नल संतोष बाबू को आज (मंगलवार) मरणोपरांत महावीर चक्र से सम्मानित किया गया। उनके अलावा वीरता का ये पुरस्कार झड़प में वीरगति को प्राप्त कर चुके चान अन्य सैनिकों को भी दिया गया। ऑपरेशन स्नो लेपर्ड का हिस्सा रहे नायब सूबेदार नूडूराम सोरेन, हवलदार के पिलानी, नायक दीपक सिंह और सिपाही गुरतेज सिंह को भी वीर चक्र से सम्मानि किया गया.

राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से उनकी मां और पत्नी ने महावीर चक्र प्राप्त किया। वहीं, सोमवार को हुए अलंकरण समारोह में विंग कमांडर (अब ग्रुप कैप्टन) अभिनंदन सहित अन्य वीर जवानों को उनकी बहादुरी के लिए सम्मानित किया गया। 15 जून को चीनी सैनिकों के घुसपैठ को रोकने में हुई झड़प के दौरान सेना के 20 भीरतीय जवान शहीद हो गए थे.

कर्नल संतोष बाबू ने चीनी सैनिकों के घुसपैठ की कोशिश को नाकाम करने के लिए अपनी जान को न्योछावर कर दिया था. कर्नल संतोष 16 बिहार रेजिमेंट के कमांडिंग ऑफिसर थे. दरअसल, 15 जून को चीनी सैनिकों के घुसपैठ को रोकने में हुई झड़प के दौरान सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे. महावीर चक्र भारत का दूसरा सबसे बड़ा वीरता पुरस्कार है. शहीद कर्नल संतोष बाबू को मरणोपरांत महावीर चक्र से सम्मानित किया किया गया. कर्नल संतोष बाबू ने शहीद होने से पहले चीनी सेना के साथ शांति स्थापित करने के लिए कई दौर की बातचीत की थी. साथ ही गलवान घाटी में ऑपरेशन स्नो-लैपर्ड के दौरान चीनी सेना के साथ हुई हिंसक झड़प में शहीद हुए चार अन्य जवानों को भी वीर चक्र से सम्मानित किया गया.

5 जवान ‘वीर चक्र’ से सम्मानित –
नायब सूबेदार नूदूराम सोरेन
हवलदार के. पिलानी
नायक दीपक कुमार
सिपाही गुरतेज सिंह
हवलदार तेजेंद्र सिंह

गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या शहीद कर्नल संतोष बाबू को महावीर चक्र दिए जाने के ऐलान के बाद उनके पिता इस सम्मान से संतुष्ट नहीं थे। उन्होंने कहा कि कर्नल को परमवीर चक्र मिलना चाहिए था। संतोष बाबू के पिता ने कहा था कि वह जून 2020 में बहादुरी का प्रदर्शन करने के लिए उन्हें मरणोपरांत महावीर चक्र प्रदान करने से 100 फीसदी संतुष्ट नहीं हैं। बाबू के पिता बी उपेंद्र ने कहा, ऐसा नहीं है कि मैं दुखी हूं, लेकिन मैं (महावीर चक्र पुरस्कार से) 100 प्रतिशत संतुष्ट नहीं हूं। उन्हें बेहतर तरीके से सम्मानित किया जाना चाहिए था।

Martyr Colonel Santosh Babu honored with Mahavir Chakra in Galwan, Vir Chakra to 5 soldiers

Share This :
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *