Type to search

मेवानी, पटेल और ठाकोर… गुजरात में कांग्रेस का सियासी दांव, पार्टी की क्या हैं रणनीति

देश राजनीति

मेवानी, पटेल और ठाकोर… गुजरात में कांग्रेस का सियासी दांव, पार्टी की क्या हैं रणनीति

Share

गुजरात में कांग्रेस ने बड़ा कदम उठाया है। इसका संकेत पार्टी ने पूर्व सांसद जगदीश ठाकोर को अध्यक्ष बनाकर दिया है. ऐसे में सवाल ये है कि कांग्रेस ने गुजरात में ठाकोर पर दांव क्यों लगाया है. आखिर पार्टी की रणनीति क्या हैं. बता दें कि गुजरात कांग्रेस में पार्टी के दो शीर्ष पद पिछले 9 महीनों से खाली चल रहे थे, क्योंकि अमित चावड़ा और परेश धनानी ने अपने-अपने पदों से इस्तीफा दे दिया था.

इसकी वजह स्थानीय निकाय चुनावों में पार्टी का खराब प्रदर्शन रहा. ये चुनाव बीते फरवरी महीने में हुए थे. ऐसे में जगदीश ठाकोर का नाम चर्चा में तब आया, जब राहुल गांधी ने गुजरात कांग्रेस के नेताओं की दिल्ली में खुली बैठक बुलाई और इस बैठक में गुजरात कांग्रेस के नेताओं ने मांग करते हुए कहा कि राज्य अध्यक्ष का पद किसी अनुभवी व्यक्ति को दिया जाए. इसके बाद से जगदीश ठाकोर के नाम की चर्चा होने लगी थी.

जगदीश ठाकोर (64 वर्षीय ) का ताल्लुक बनासकांठा में कंकरेज से है और वे अहमदाबाद में रहते हैं. 2009 के लोकसभा चुनाव में ठाकोर ने पाटन सीट से 2.8 लाख वोटों से जीत हासिल की थी. सांसद रहने के साथ वे दो बार दहेगाम और पाटन विधानसभा से विधायक भी रहे हैं. जगदीश ठाकोर के बारे में हाल ही में राहुल गांधी के साथ हुई मीटिंग में एक नेता ने कहा था कि 2009 के चुनाव में बीजेपी उम्मीदवार को बड़े अंतर से हराने के बावजूद उन्होंने दूसरे कैंडिडेट के लिए अपनी सीट छोड़ दी थी. फिर उन्हें 2019 के चुनाव में टिकट भी नहीं दिया गया.

ठाकोर को पार्टी अध्यक्ष की कमान दिए जाने के बाद गुजरात के सियासी गलियारों में यह चर्चा शुरू हो गई है कि कांग्रेस अपने कोर वोट बैंक ओबीसी, एससी और एसटी की ओर वोट लौट रही है. ठाकोर का संबंध ओबीसी समुदाय से है, और पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान साथ रहे अल्पेश ठाकोर के बीजेपी में चले जाने के बाद पार्टी को हुए नुकसान की भरपाई करने की कोशिश के तौर पर भी देखा जा रहा है. ये एक संदेश देने की कोशिश है कि कांग्रेस पार्टी ओबीसी की परवाह करती है.

गुजरात में कांग्रेस का KHAM करके एक बहुत पुराना समीकरण रहा है, जिसे पार्टी का कोर वोट बैंक माना जाता रहा है, KHAM का मतलब क्षत्रिय (सवर्ण), हरिजन (SC), आदिवासी और मुस्लिम. ठाकोर को पार्टी अध्यक्ष बनाए जाने के बाद गुजरात में कांग्रेस का समीकरण देखें तो जिग्नेश मेवानी, हार्दिक पटेल और जगदीश ठाकोर अब राज्य में पार्टी का चेहरा होंगे. हार्दिक पटेल जहां पाटीदार समुदाय से हैं, वहीं जिग्नेश मेवानी हरिजन यानि एससी समुदाय से हैं. जिग्नेश मेवानी ने हाल ही में दिल्ली में कन्हैया कुमार के साथ राहुल गांधी की उपस्थिति में कांग्रेस पार्टी ज्वॉइन की थी.

ठाकोर का संबंध जहां ओबीसी समुदाय से है, वही रठवा का संबंध आदिवासी समुदाय से है. कहा जा सकता है कि 2022 के आखिर में होने वाले गुजरात विधानसभा चुनावों के लिए सियासी बिसात पर कांग्रेस अपने मोहरे बिछा रही है, और इस बार उसने हार्दिक पटेल, जिग्नेश मेवानी और जगदीश ठाकोर को सामने लाकर अपने इरादे जाहिर कर दिए हैं.

Mevani, Patel and Thakor… Congress’s political bet in Gujarat, what is the party’s strategy

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *