Type to search

गृह मंत्रालय ने राज्यों को दिया कोरोना के खिलाफ 5 मंत्र, बोले- एकदम रहे सतर्क

कोरोना देश

गृह मंत्रालय ने राज्यों को दिया कोरोना के खिलाफ 5 मंत्र, बोले- एकदम रहे सतर्क

Share
Ministry of Home Affairs

कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी से गिरावट आ रही है। गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए दिशानिर्देश जारी कर कहा है कि कोरोना के मामले भले ही कम हो रहे हैं लेकिन जब भी ढील दी जाए, तब ज्यादा सावधानी बरती जाए। केंद्र सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन 31 जुलाई तक जारी रहेगी। कोविड को काबू करने के केंद्र ने 5 फोल्ड स्ट्रेटजी भी तैयार की है।

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने जुलाई महीने के लिए कोविड-19 प्रबंधन पर सभी राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों के प्रशासन को सलाह दी। इसमें कहा गया है कि राज्यों को नियमित रूप से उन जिलों की निगरानी करनी चाहिए जहां प्रति 10 लाख जनसंख्या पर कोरोना वायरस के उपचाराधीन मामलों की संख्या अधिक है क्योंकि स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे और साजोसामान के उन्नयन की आवश्यकता का अनुमान लगाने के लिए यह एक महत्वपूर्ण संकेतक है, ताकि शीघ्र और त्वरित कार्रवाई की जा सके।

गृह मंत्रालय के मुताबिक ये 5 फोल्ड स्ट्रेटजी टेस्टिंग, ट्रैकिंग, ट्रीटमेंट, कोविड एप्रोप्रिएट बिहैवियर और पोस्ट कोविड मैनेजमेंट हैं। केंद्र सरकार और स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से लगातार लोगों से अपील की जा रही है कि वे कोविड नियमों का पालन करें और कोरोना के खिलाफ जंग में एकजुट हों। गृह मंत्रालय का कहना है कि राज्य और केंद्र शासित प्रदेश कोरोना के नए मामलों और अस्पतालों में बेडों की पर्याप्त संख्या पर नजर रखें। जिलेवार प्रशासनिक इकाइयां इसे लेकर सतर्क रहें. जैसे ही मामले तेजी से बढ़ें, उससे पहले अस्पतालों में बेड्स और स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर कर लिया जाए।

तीसरी लहर का कारण बनेगा डेल्टा+, अभी बताना मुश्किल
डॉ. अरोड़ा ने कहा था, ‘महामारी के लहरों का संबंध वायरस के नए वेरिएंट्स या फिर नए म्यूटेशन से हैं, इसलिए डेल्टा प्लस वेरिएंट की वजह से तीसरी लहर आने की एक संभावना है क्योंकि यह एक नया वेरिएंट है। लेकिन क्या वाकई यह तीसरी लहर की ओर ले जाएगा, इसका उत्तर देना मुश्किल है क्योंकि यह दो या तीन चीजों पर निर्भर करेगा।’ डॉ. अरोड़ा ने कहा कि वायरस का अकेला वेरिएंट देश पर बुरी तरह से चोट नहीं कर सकता क्योंकि इसके अलावा तीन अन्य ऐसे कारक भी हैं जो महामारी की संभावित नई लहर को नियंत्रित करेंगे।

Share This :
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Join #Khabar WhatsApp Group.