Type to search

Monsoon Update : समय से पहले दस्तक दे सकता है मानसून, 21 मई तक केरल तट से टकाराने की संभावना

जरुर पढ़ें देश

Monsoon Update : समय से पहले दस्तक दे सकता है मानसून, 21 मई तक केरल तट से टकाराने की संभावना

Share
monsoon

केरल में मानसून 20 मई के बाद किसी भी वक्त आ सकता है, जो इस बार अपने समय से करीब 10 दिन पहले दस्तक देगा. केरल में मानसून का आगमन सामान्यत: 1 जून के आसपास होता है. आईएमडी ने इस आशय के संकेत पुणे स्थित आईआईटीएम में विकसित मल्टी-मॉडल एक्सटेंडेड रेंज प्रेडिक्शन सिस्टम का उपयोग करके अपने नवीनतम एक्सटेंडेड रेंज फोरकास्ट के जरिए दिए हैं.

एक रिपोर्ट के मुताबिक, ‘1 मई से 5 जून के लिए 4 सप्ताह की विस्तारित सीमा के पूर्वानुमान के अनुसार, केरल में मानसून की शुरुआत 20 मई के बाद कभी भी हो सकती है. 28 अप्रैल को जारी पिछले ईआरएफ में भी 19-25 मई की अवधि में केरल में वर्षा की गतिविधियों में वृद्धि का अनुमान लगाया गया था. यदि ईआरएफ अगले सप्ताह भी 20 मई के बाद केरल में इसी तरह की स्थिति दिखाता है, तो निश्चित रूप से कहा जा सकता है कि इस तटीय राज्य में मानसून की शुरुआत समय से पहले होगी.’

भारत मौसम विभाग का नवीनतम ईआरएफ मई 5-11 (सप्ताह 1), मई 12-18 (सप्ताह 2), मई 19-25 (सप्ताह 3) और मई 26-जून 1 (सप्ताह 4) के लिए है. IITM के विशेषज्ञ के मुताबिक, अभी के लिए, केरल में मानसून के जल्द शुरुआत के संकेत दिखाई दे रहे हैं. पूर्वी मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक चक्रवाती तूफान बनने जा रहा है. इससे अंडमान और निकोबार द्वीप समूह पर मानसून के प्रवाह को मजबूत करने में मदद मिलने की संभावना है. नवीनतम ईआरएफ के अनुसार, इस वेदर सिस्टम से तीसरे सप्ताह के आसपास मानसून के प्रवाह में बाधा पड़ने की संभावना नहीं है, क्योंकि तब तक यह अपना प्रभाव खो चुका होगा.’

डीएस पई के मुताबिक मानसून के केरल में जल्दी आने के मामूली संकेत दिख रहे हैं. लेकिन साथ ही यह देखना भी महत्वपूर्ण होगा कि अगले 15 दिनों के दौरान तस्वीर कैसे सामने आती है, खासकर बंगाल की खाड़ी के ऊपर उठने वाले चक्रवाती तूफान के बाद. आम तौर पर, मानसून 15-16 मई तक दक्षिण अंडमान सागर में प्रवेश करता है और 22 मई तक, यह पूरे अंडमान और निकोबार द्वीप समूह को कवर करता है.

Monsoon Update: Monsoon may knock ahead of time, likely to hit Kerala coast by May 21

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *