Type to search

MS Dhoni घुटने के दर्द से हैं परेशान, झारखंड में 40 रुपये में वैद्य से करवा रहे इलाज

खेल जरुर पढ़ें देश

MS Dhoni घुटने के दर्द से हैं परेशान, झारखंड में 40 रुपये में वैद्य से करवा रहे इलाज

Share on:

रांची – भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और झारखंड के सबसे बड़े टैक्स पेयर महेंद्र सिंह धोनी इन दिनों अपने घुटनों के दर्द से थोड़े परेशान हैं. ऐसे में आप उम्मीद कर रहे होंगे कि धोनी देश या विदेश के किसी महंगे अस्पताल में अपने घुटनों का इलाज करवा रहे होंगे, लेकिन ऐसा नहीं है. धोनी इस बार अपने घुटनों का इलाज जंगल में एक स्थानीय वैद्य से करवा रहे हैं. दरअसल, महेंद्र सिंह धोनी रांची से सटे एक गांव में पेड़ के नीचे बैठकर वैद्य से दिखला रहे हैं.

रांची से लगभग 80 किलोमीटर दूर लापुंग के गलगली धाम में देसी गाय के दूध, पेड़ छाल और कई जड़ी-बूटियों से दवाइयां बनाई जाती हैं. महेंद्र सिंह धोनी अब तक 4 बार यहां आकर खुराक ले चुके हैं. उनके माता-पिता के दर्द की दवा भी यहीं से जाती है. वैद्य बंदन सिंह खेरवार से कई राज्यों से लोग यहां दवा लेने आते हैं. बताया जा रहा है कि वैद्य की दवा खाने से धोनी को काफी आराम मिला है.

मरीजों का कहना है कि वैद्य खेरवार की दवा पीने से जोड़ों का दर्द हमेशा के लिए ठीक हो जाता है. हम लोगों को वैद्य जी की दवा से काफी संतुष्टि मिलती है. जानकारी के अनुसार, इस वर्ष आइपीएल के दौरान धोनी अपने घुटने के दर्द से परेशान थे। हालांकि धोनी दर्द के बावजूद खेलते रहे, लेकिन फिर उन्होंने अपना इलाज कराने की ठानी। आइपीएल के बाद जब वे रांची पहुंचे तब उन्होंने इसकी चर्चा अपने घर में की, इस पर उनके पिता पान सिंह ने वैद्य के संबंध में बताया। जानकारी के अनुसार धोनी के माता-पिता भी घुटने के दर्द से परेशान थे और उनके एक मित्र ने ही इस वैद्य का नाम उन्हें बताया था। चार-पांच महीने से इलाज के बाद दोनों को इससे काफी लाभ हुआ।

माता-पिता के परामर्श पर धोनी वैद्य खेरवार के आश्रम में पहुंचे। माही ने एकदम आम आदमी की तरह खेरवार से अपना इलाज कराना शुरू किया। पहली बार जब वह वैद्य के पास पहुंचे तो वे धौनी को पहचान नहीं पाए। दूसरी बार वैद्य की बेटी ने धौनी को पहचाना और उसके साथ तस्वीरें खिंचवाई। इंटरनेट मीडिया पर जब यह तस्वीर वायरल हुई तो मामला प्रकाश में आया। धोनी के यहां आने की खबर सुनकर उनके चाहने वाले यहां आ रहे हैं. जिसकी वजह से भीड़ जमा हो गई है, इसलिए वह अब गांव पहुंचकर गाड़ी में ही बैठे रहते हैं और दवा की खुराक लेकर चले जाते हैं.

वैद्य बंधन मरीजों का इलाज तेल व जड़ी-बूटी से करते हैं। वह स्वयं दवा तैयार करते हैं और मरीज को अपने हाथों से खिलाते हैं। किसी भी प्रकार के दर्द, हड्डी के टूटने, जोंडिस, साइटिका, बावासीर व कैंसर जैसी बीमारी का इलाज कराने के लिए उनके पास मरीज दूर-दूर से आते हैं। मरीज को वे पांच दिनों में एक बार बुलाकर दवा देते हैं। यहां झारखंड के अलावा दिल्ली, मुंबई कोलकाता और छत्तीसगढ़ से भी लोग इलाज करने पहुंचते हैं.

MS Dhoni is troubled by knee pain, getting treatment from Vaidya in Jharkhand for 40 rupees

Asit Mandal

Share on:
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *