Type to search

आतंकियों-ड्रग सांठगांठ मामले में दिल्ली-पंजाब समेत 4 स्टेट में कई ठिकानों पर NIA की रेड

Breaking देश

आतंकियों-ड्रग सांठगांठ मामले में दिल्ली-पंजाब समेत 4 स्टेट में कई ठिकानों पर NIA की रेड

Share
NIA

आतंकवादियों और ड्रग तस्करों के बीच पनपते सांठगांठ के खिलाफ बड़ा एक्शन हुआ है. एनआईए यानी राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने भारत और विदेशों में स्थित आतंकवादियों, गैंगस्टरों और मादक पदार्थों (ड्रग्स) के तस्करों के बीच उभरते नेक्सस को खत्म करने के लिए आज यानी मंगलवार को पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में कई ठिकानों पर छापेमारी की.

एनआईए की यह रेड दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान और पंजाब में 40 से अधिक अलग-अलग ठिकानों पर चल रही है, जिसमें कईं टीमें शामिल हैं. हालांकि, अब तक इसमें गिरफ्तारी या जब्ती को लेकर कोई जानकारी सामने नहीं आई है. इससे पहले 14 अक्टूबर को जांच एजेंसी एनआईए ने ड्रोन डिलीवरी मामले में जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले सहित कई स्थानों पर तलाशी ली थी.

एनआईए के मुताबिक, इस मामले में अब तक किसी को हिरासत में नहीं लिया गया है. पिछले नौ महीनों में सुरक्षा बलों ने पड़ोसी देश पाकिस्तान से भारतीय क्षेत्र में 191 ड्रोन के अवैध प्रवेश को देखा है, जो देश में आंतरिक सुरक्षा के मामले में बड़ी चिंता पैदा करता है. माना जा रहा है कि आतंकवादी ड्रग्स तस्करों के साथ मिलकर देश में साजिश रच रहे हैं, जिसके खिलाफ एनआईए ने यह एक्शन लिया है.

रेड तीन बिंदुओं की तफ्तीश के लिए की जा रही है –
-गैंगस्टर और ड्रग तस्करी का कनेक्शन
-गैंगस्टरों का अलग-अलग राज्यों में फैलता जाल
-आतंकियों और ड्रग तस्करी का कनेक्शन

बताया यह भी जा रहा है कि ज्यादातर रेड की लोकेशन हरियाणा, उत्तराखंड और पंजाब में है. हालांकि, दिल्ली में यह रेड बवाना इलाके में नीरज बवाना के ठिकानों पर है. यह छापेमारी टॉप मोस्ट गैंगस्टर के खिलाफ की गई रेड का ही दूसरा पार्ट है. नीरज बवाना, बम्बइया गैंग, लॉरेंस बिश्नोई गैंग, नासिर, छेनू, गोगी, काला जेठेडी और गोल्डी बरार समेत तमाम अन्य गैंगस्टर के गुर्गों के ठिकानों पर रेड जारी है. इन गैंगस्टर्स के मददगार भी एनआईए के रडार पर हैं.

NIA raids on several locations in 4 states including Delhi-Punjab in terrorist-drug nexus case

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *