Type to search

श्रीलंका में इसी हफ्ते बनेगी गैर राजपक्षे सरकार

जरुर पढ़ें दुनिया देश

श्रीलंका में इसी हफ्ते बनेगी गैर राजपक्षे सरकार

Share

श्रीलंका में इन दिनों हालात बेहद चिंताजनक हैं. आजादी के बाज से सबसे बुरे आर्थिक संकट का सामना कर रहे इस देश में लोग उग्र हो गए हैं और हिंसक प्रदर्शन कर रहे हैं. राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने देश में शांति कायम करने के लिए सेना को उतार दिया है. इसी बीच राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने ऐलान कर दिया है कि वह एक हफ्ते में नए प्रधानमंत्री के नाम का ऐलान करेंगे. उन्होंने कहा कि नया प्रधानमंत्री राजपक्षे परिवार से नहीं होगा. साथ ही कैबिनेट में भी राजपक्षे परिवार से किसी सदस्य को शामिल नहीं किया जाएगा.

राष्ट्रपति गोटबाया ने कहा, ‘अगले एक हफ्ते में ऐसे प्रधानमंत्री को नियुक्त करूंगा जिसके पास बहुमत हो और लोग जिसमें भरोसा करते हों. मैं मंत्रियों की नई कैबिनेट भी नियुक्त करूंगा. इसके साथ ही उन्होंने लोगों से नफरत फैलाने से बचने की अपील की.’राष्ट्रपति कार्यालय की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि श्रीलंका में 12 मई यानी आज सुबह 07 बजे से दोपहर 02 बजे तक के लिए कर्फ्यू हटाया जाएगा. इसके बाद 13 मई को सुबह 06 बजे तक कर्फ्यू जारी रहेगा.

सरकार के खिलाफ जारी प्रदर्शनों में अब तक 9 लोगों की जान जा चुकी है. कम से कम 350 लोग जख्मी हुए हैं. उनका इलाज किया जा रहा है. श्रीलंका में फंसे भारतीयों के लिए हेल्पलाइन नंबर +94-773727832 और ईमेल ID [email protected] जारी की गई है. श्रीलंका सेंट्रल बैंक गवर्नर पी नंदलाल वीरसिंघे का कहना है कि अगर अगले 2 सप्ताह के भीतर देश में राजनीतिक स्थिरता नहीं आई, तो वो अपना पद छोड़ देंगे. उन्होंने कहा कि जब तक वर्तमान राजनीतिक संकट का हल नहीं निकाला जाता है तब तक देश की इकोनॉमी को ठीक करने की कोशिशें नाकाम रहेंगी.

राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने संसद को ज्यादा ताकतवर बनाने का वादा किया. उन्होंने लोगों से संयम बरतने की अपील की है. श्रीलंका की ट्रेड यूनियनों ने बुधवार को सरकार के खिलाफ हड़ताल वापस ले ली है. देश में लगातार घट रही हिंसक घटनाओं के मद्देनजर यह फैसला लिया गया है. इन यूनियनों का कहना है कि देश को स्थिर रखने में मदद करना हमारी जिम्मेदारी है.

श्रीलंका पेट्रोलियम प्राइवेट टैंकर ओनर्स एसोसिएशन (SLPPTOA) ने ऑयल और गैस के वितरण को अस्थायी तौर पर रोक दिया है. SLPPTOA का कहना है कि जब सुरक्षा तय नहीं की जाएगी, तब ऑयल वितरण नहीं होगा. देशव्यापी विरोध-प्रदर्शन के बीच श्रीलंका की राजधानी में सुरक्षा के लिए सैनिकों और सैन्य वाहनों को सड़कों पर तैनात कर दिया गया है. प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देने वाले महिंदा राजपक्षे को त्रिंकोमाली नौसैन्य ठिकाने पर सुरक्षा घेरे में रखा गया है.

Non Rajapaksa government will be formed in Sri Lanka this week

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *