Type to search

गुलाबी शहर में क्या खिलेगा ‘कमल’?

जरुर पढ़ें राज्य

गुलाबी शहर में क्या खिलेगा ‘कमल’?

Share

एक कहानी में अनेक कहानी के शिल्प के विलोम में धर्मवीर भारती ने अनेक कहानियों में एक कहानी का शिल्प बुना और इस उपन्यास को नाम दिया सूरज का सातवां घोड़ा।

हमारे यहां क्राइम, क्रोनी कैपिटलिज्म और कोरोना के कड़ाह में खौलता लोकतंत्र है।  

स्कूल में सिविक्स की क्लास के बाद मैथ्स की क्लास में कभी-कभी ऐसा हो जाता था कि ब्लैकबोर्ड पर ऊपर में राज्य लिखा रह जाता था और नीचे अलजेब्रा के सवाल का हल होता था। तब जितना लोकतंत्र मास्टर जी के डस्टर में चॉक की धूल के तौर पर चिपका रह जाता था…आज भी शायद उतना ही है लोकतंत्र का ..जो बचा रह गया है।

अगर ऐसा नहीं है तो फिर ये क्यों है कि एक राज्य के मुख्यमंत्री को प्रेस कान्फ्रेंस कर कहना पड़ता है कि  … अभी देश में लोकतंत्र को… सबसे बड़ा खतरा… प्रधानमंत्री और गृहमंत्री से है।

ऐसे वक्त में जब देश कोरोनावायरस से जूझ रहा है… प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह मिलकर लोकतंत्र को खत्म कर रहे हैं।

‘इस वक्त हमें यह तय करना है कि कौन दर्द बांट रहा है और कौन दवा

जब पूरी दुनिया वायरस से जूझ रही थी, तो बीजेपी मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार को गिराने में व्यस्त थी

हॉर्स ट्रेडिंग को बढ़ावा देने के लिए टाले गए थे राज्यसभा चुनाव’

‘चुनाव (राज्यसभा) यहां है. इसे दो महीने पहले कराया जा सकता था, लेकिन उन्होंने गुजरात और राजस्थान में ‘खरीद और बिक्री’ को पूरा नहीं किया था, इसलिए उन्होंने इसमें देरी की. चुनाव अब होने जा रहे हैं और स्थिति जस की तस है.’

अशोक गहलोत, मुख्यमंत्री राजस्थान 

फेक न्यूज और भद्दे मीम्स के इस जमाने में नैतिकता बस मास्टर साब के उस डस्टर में रह गई है जो  संस्कृत की क्लास शुरू होने से पहले नियम से जियोग्राफी के सवाल मिटा दिया करती है।

जयपुर का पाताललोक

राजस्थान में तीन सीट के लिए 19 जून को चुनाव हैं। कांग्रेस ने दो और बीजेपी ने भी दो कैंडिडेट मैदान में उतारे हैं। जीत के लिए एक कैंडिडेट को 51 वोट चाहिए। 200 सीट वाली एसेंबली में कांग्रेस के 107 विधायक हैं, मतलब ये कि वोट की खरीद फरोख्त न हो तो कांग्रेस को राज्यसभा की दो सीट जीतने में कोई मुश्किल नहीं होनी चाहिए। वहीं बीजेपी का राज्यसभा का एक सीट तो पक्का है, लेकिन ओंकार सिंह लखावट की दूसरी सीट के लिए अभी मौजूद पार्टी के 72 विधायकों से बात नहीं बनेगी। कोशिश है  14 निर्दलीय, तीन आरएलपी और दो सीपीएम विधायकों को तोड़ने की। अगर ये हो भी गया तो भी कम से कम दस वोट बीजेपी को और चाहिए। गहलोत का आरोप है कि बीजेपी कांग्रेस के हर एक  विधायक को 35 करोड़ का ऑफर दे रही है। चीफ व्हीप महेश जोशी ने इस बाबत ATS को खत भी लिखा है।

वहीं राजस्थान बीजेपी के अध्यक्ष सतीश पूनिया का दावा है कि राजस्थान कांग्रेस में जारी अंतर्कलह में अपनी स्थिति मजबूत करने के लिए गहलोत ये निराधार बयान दे रहे हैं।

आरोप है कि बीजेपी ऑपरेशन लोटस के लिए 350 से 500 करोड़ कैश का इस्तेमाल कर रही है। सवाल है इतना सारा काला धन आएगा कहां से ?

ये सिर्फ इत्तेफाक ही होगा कि जब राजस्थान में घोड़ा बाजार की खबर सामने आई, करीब-करीब उसी वक्त  सूरज का सातवां घोड़ा भी रेस में आ गया।  खबर ये है कि अडानी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड को भारतीय सौर ऊर्जा निगम से दुनिया का सबसे बड़ा… 8,000 मेगावॉट का… सोलर पावर प्लांट बनाने का ठेका मिला है। कोरोना काल में इसे सिर्फ इत्तेफाक ही माना जाना चाहिए कि अडानी ग्रीन के शेयर मूल्य में इस साल 88% का इजाफा हुआ है।

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *