Type to search

पेंटागन को ‘कोई मिल गया’

जरुर पढ़ें दुनिया

पेंटागन को ‘कोई मिल गया’

Share

सच और कल्पना, साइंस और फैन्टासी के बीच कई बार बस एक फर्क होता है..सबूत

वो सबूत अब सामने आ गया है

पेंटागन ने अमेरिकी नेवी की ओर से लिए गए UFO के फुटेज जारी किए हैं। वैसे तो ये वीडियो पहले ही 2007 और 2017 में सोशल मीडिया में लीक हो चुके थे, लेकिन अब पेंटागन ने इन्हें आधिकारिक तौर पर जारी किया है।

Pentagon officially releases 'UFO' videos

2004 से 2015 के बीच कैप्चर किए गए तीन वीडियो को जारी किया गया है। इन वीडियो को नेवी के फाइटर जेट से ट्रेनिंग फ्लाइट के दौरान शूट किया गया था।

वीडियो क्यों जारी किए गए ?

सोशल मीडिया में पहले से सर्कुलेट हो रहे इन वीडियो को लेकर लोगों को भ्रम था कि ये असली हैं या नहीं। तो ये वीडियो असली हैं। कई लोगों  को ये भी लगता है कि इस तरह के कई और वीडियो हैं। उन्हें ये बताना है कि, नहीं, इस तरह के और वीडियो हमारे पास नहीं हैं। इन्हें रिलीज करने से पहले हमने जांच की कि कहीं हम अपने सिस्टम या ताकत की कोई खुफिया जानकारी तो इस तरह सार्वजनिक नहीं कर रहे। पूरी तरह तसल्ली करने के बाद हम इन वीडियोज को शेयर कर रहे हैं।

तो क्या ये UFO हैं?

पेंटागन के मुताबिक हम इन्हें unidentified flying object नहीं कहते, हम इन्हें कहते हैं UAP यानी unexplained aerial phenomena। 1953 में अमेरिकी एयरफोर्स ने पहली बार आसमान में उड़ने वाली अज्ञात चीजों को नाम दिया था UFO । तब से यही नाम दुनिया भर में इस्तेमाल हो रहा है।

वीडियो में क्या है?

पहला वीडियो-साल 2004

ये USS Nimitz से 2004 में लिया गया था। ये 2015 के बाकी दो वीडियो जितना साफ नहीं है। इस वीडियो को शूट करने वाले कमांडर डेविड फ्रेजर ने 2017 में न्यूयॉर्क टाइम्स से कहा था- ये चीज करीब 40 फीट लंबी थी और अंडे की तरह गोल थी। ये जितनी स्पीड से भाग रही थी, उस स्पीड से चलती किसी चीज को मैंने कभी देखा नहीं था। मुझे कुछ समझ नहीं आया। इसमें न धुआं निकल रहा था, न पंख थे न मोटर फिर भी ये हमारे F18से तेज भाग रहा था। ये चीज मुझे मिल जाए तो मैं जरूर उड़ाना चाहूंगा।

दूसरे वीडियो में क्या है?

2015 के दो वीडियो हैं। जिन्होंने इन्हें शूट किया है, उनकी आवाज भी इसमें दर्ज है।

 एक वीडियो का टाइटल है Go Fast

इसमें एक छोटी सी सफेद चीज तेजी से घूमती हुई फ्रेम में कैप्चर हुई है। जैसे ही व्यूफाइंडर में ये चीज नजर आती है प्लेन में बैठे दो लोग खुशी का इजहार करते हुए कहते हैं देखो ये उड़ रही है-“look at it fly”

अभी ये चीज समंदर के ऊपर उड़ती नजर आ रही है।

तीसरे वीडियो में क्या है?

 2015 के दूसरे और पेंटागन के आखिरी वीडियो का टाइटल है  Gimbal

इस वीडियो में एक अंडाकर चीज बादलों के ऊपर तेजी से उड़ती नजर आ रही है

 एक पायलट की आवाज आती है – ये हवा की उल्टी दिशा में उड़ रहा है

अभी हवा की रफ्तार है 120 नॉट यानी 222 किमी और ये पश्चिम से बह रही है

फिर इस उड़ने वाली चीज की दिशा बदल जाती है। अब एक पायलट की आवाज आती है – इसे देखो, ये घूम रही है-“Look at that thing. It’s rotating.”

चार महीने पहले अमेरिका रक्षा विभाग ने कबूल किया था कि उसने 2007 से 2012 के दरम्यान $US22 million यानी करीब 150 करोड़ UFO के बारे में  जांच करने में लगाया था।

वीडियोज की अहमियत क्या है?

अमेरिकी रक्षा विभाग के पूर्व डिप्टी असिस्टेंट सेक्रेटरी क्रिस्टोफर मेलन ने वाशिंपगटन पोस्ट में लिखा –

इन वीडियोज, पायलट और रडार ऑपरेटर्स के ऑबजर्वेशन से पता चलता है कि कहीं कोई तो है जिसके पास अमेरिका और उसके सहयोगी देशों से बेहतर तकनीकी वाला एयरक्राफ्ट है। ये मुमकिन है कि ये महान सभ्यता का संकेत हो। हमें इसका कोई इल्म ही नहीं है,क्योंकि हम इम जवाब जानने की कोशिश ही नहीं कर रहे।

2017 में न्यूयॉर्क टाइम्स में वीडियो के रिलीज होने के बाद अमेरिकी नेवी ने ये व्यवस्था बनाई कि जब भी इस तरह की कोई घटना फिर सामने आएगी, तब इसका रिकॉर्ड रखा जाएगा।  2019 में अमेरिकी नेवी ने इस तरह की घटनाओं में इजाफा होने की बात कबूल की है।

इशारा साफ है स्पीलबर्ग की ईटी या राकेश रोशन की कोई मिल गया भविष्य में सच साबित हो सकती है। वैसे स्टीफन हाकिन्स की राय ये थि कि अगर दूसरे ग्रह का कोई जीव हमारे ग्रह पर आएगा तो वो दोस्ती के लिए नहीं आएगा।

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *