Type to search

यूक्रेन-रुस युद्ध पर PM मोदी ने की हाईलेवल मीटिंग, 4 केंद्रीय मंत्री जाएंगे यूक्रेन के पड़ोसी देश

जरुर पढ़ें दुनिया देश

यूक्रेन-रुस युद्ध पर PM मोदी ने की हाईलेवल मीटिंग, 4 केंद्रीय मंत्री जाएंगे यूक्रेन के पड़ोसी देश

Share

नई दिल्ली – यूक्रेन-रुस युद्ध पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की, जहां भारतीयों को वतन वापसी के अभियान को तेजी देने को लेकर चर्चा की गई. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 4 केंद्रीय मंत्रियों को यूक्रेन के पड़ोसी देश भेजा जा सकता है,प्राप्त जानकारी के अनुसार वीके सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया, किरण रिजूजू और हरदीप पुरी को भेजा जा सकता है.

प्रधानमंत्री मोदी ने आज यूक्रेन संकट पर एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई, जिसमें यूक्रेन में फंसे भारतीयों की निकासी की प्रक्रिया तेज करने के उद्देश्य से यूक्रेन के पड़ोसी देशों के साथ सहयोग बढ़ाने पर चर्चा हुई. बता दें कि विदेश मंत्रालय ने यूक्रेन से भारतीयों को वापस लाने में मदद करने के लिए रविवार को एक आधिकारिक ट्विटर हैंडल ‘ऑपगंगा हेल्पलाइन’ की शुरुआत की. यूक्रेन में फंसे हुए भारतीयों को वापस लाने के अभियान को ‘ऑपरेशन गंगा’ नाम दिया गया है. भारत ने पहले ही पोलैंड, रोमानिया, हंगरी और स्लोवाकिया में कंट्रोल रूम स्थापित किए हैं ताकि इन देशों से लगने वाली यूक्रेन की सीमा से जरिए भारतीयों को निकाला जा सके.

बैठक में विदेश मंत्रालय के कई उच्च अधिकारी भी शामिल थे। जिन्होंने पीएम मोदी का जमीनी हालात के बारे में बताया। पीएम को ये भी जानकारी दी गई कि यूक्रेन के पड़ोसी देशों तक भारतीय छात्रों को बस, ट्रेन या अन्य साधनों से ले जाया जा रहा है। वहां से विशेष उड़ानों के जरिए उनको भारत लाया जा रहा है। इस पर पीएम ने फैसला किया कि केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी, ज्योतिरादित्य सिंधिया, किरेन रिजिजू और जनरल (सेवानिवृत्त) वीके सिंह निकासी मिशन के समन्वय और छात्रों की मदद करने के लिए यूक्रेन के पड़ोसी देशों में जाएंगे।

यूक्रेन की सरकार ने भारतीय छात्रों की मदद का फैसला लिया था, लेकिन अब वहां के सुरक्षाबलों पर गंभीर आरोप लगे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रोमानिया की सीमा पर बड़ी संख्या में भारतीय छात्र पहुंचे थे, लेकिन उन्हें वहां पर एंट्री नहीं करने दी गई। साथ ही कुछ भारतीय छात्रों के साथ यूक्रेन के जवानों ने मारपीट की। इसका एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। छात्रों का आरोप है कि यूक्रेन में उनके साथ अब भेदभाव किया जा रहा है।

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सरकार भारतीयों को यूक्रेन से निकालने के लिए तेजी से काम कर रही है। यूक्रेन के पड़ोसी देशों से उड़ानों की संख्या को बढ़ाने का फैसला लिया गया है, ताकि ज्यादा से ज्यादा भारतीयों को वतन वापस लाया जा सके।

PM Modi holds high-level meeting on Ukraine-Russia war, 4 union ministers will visit neighboring countries of Ukraine

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *