Type to search

कॉपी-किताबों के भी बढ़े दाम, 50% तक हुई महंगी

कारोबार जरुर पढ़ें देश

कॉपी-किताबों के भी बढ़े दाम, 50% तक हुई महंगी

Share

देशभर में लगातार बढ़ रही महंगाई का असर अब बच्चों की कॉपी-किताबों और शिक्षा पर भी पड़ने लगा है. पेट्रोल-डीजल और कच्चे माल की रेट बढ़ने के बाद अब कॉपी-किताबों के दाम 35 से 50 प्रतिशत तक बढ़ गए हैं. इसके अलावा दो साल बाद मांग काफी ज्यादा आने से बाजार में किताबें की कमी भी बनी हुई है.बता दें कि अप्रैल से नया शैक्षिक सत्र शुरू हो गया है.

सरकार ने निजी स्कूलों की फीस वृद्धि पर लगी रोक को हटा लिया है. वहीं दूसरी तरफ अब किताबों और ड्रेस, जूता आदि के कीमत में 50 प्रतिशत तक की वृद्धि हो गयी है. ऐसे में अभिभावकों की दिक्कत काफी बढ़ती दिख रही है. इसके अलावा स्कूली बैग की कीमत में सौ से डेढ़ सौ रुपये का इजाफा हुआ है. फुटवियर पर जीएसटी दर पांच से 12 फीसदी होने के बाद स्कूल शूज की कीमतों में 150 रुपये तक का इजाफा हुआ है.

कारोबारियों के अनुसार कॉपी-किताब तैयार करने के लिए जरूरी कच्चे माल के दाम कोरोना काल में ज्यादा बढ़ गए हैं. प्लास्टिक के दाने की कीमत 80 रुपये से 160-170 रुपये किलो हो गई है. वहीं, कागज का रेट 50 से बढ़कर 85 रुपये प्रति किलो हो गया है. कारोबारियों के अनुसार कॉपी-किताबों का जो सेट पहले औसतन तीन हजार रुपये में आता था, वह इस बार पांच हजार रुपये में बिक रहा है. इसी तरह निजी प्रकाशकों की गणित, विज्ञान, अंग्रेजी की जो किताब 300 से 325 रुपये तक की आती थी वो अब 400 रुपये तक हो गई है.

Prices of copy-books also increased, up to 50% more expensive

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *