Type to search

‘जान बचा ली यह कम है क्या?’ कहकर दिल्ली की मैक्स अस्पताल ने कोविड मरीज को थमाया डेढ़ करोड़ का बिल

देश

‘जान बचा ली यह कम है क्या?’ कहकर दिल्ली की मैक्स अस्पताल ने कोविड मरीज को थमाया डेढ़ करोड़ का बिल

Share

राजधानी दिल्ली में प्राइवेट हॉस्पिटल्स की मनमानी का मुद्दा एक बार फिर सुर्खियों में है. दिल्ली के साकेत स्थित मैक्स हॉस्पिटल द्वारा कोरोना के मरीज को 1 करोड़ 60 लाख रुपये का बिल पकड़ाए जाने के बाद कांग्रेस और आम आदमी पार्टी देश में प्राइवेट अस्पतालों पर रेगुलेशन की मांग कर रही हैं. पीड़ित कोरोना मरीज को 28 अप्रैल को अस्पताल में एडमिट किया. मरीज को 6 सितंबर को डिस्चार्ज करते हुए अस्पताल ने डेढ़ करोड़ से ज्यादा का बिल पकड़ा दिया. जिसके बाद मरीज के परिजन मालवीय नगर से विधायक आम आदमी पार्टी नेता सोमनाथ भारती के पास गए. जिसके बाद सोमनाथ भारती ने अस्पताल से बातचीत की.

सोमनाथ भारती ने कहा, “बहुत ही आश्चर्यचकित करने वाला मसला है. 1 करोड़ 60 लाख का बिल है. एक कोरोना मरीज से इतना ज्यादा पैसा चार्ज किया गया. किसी से भी आप इतना पैसा मांगोगे तो वह डिस्टर्ब हो ही जाएगा. मैंने अस्पताल से कहा कि आपने शरीर में ऐसा क्या लगाया है कि बिल एक करोड़ से ज्यादा का आया है. मैंने उनसे डिस्काउंट देने के लिए कहा.”

सोमनाथ भारती ने आगे कहा, ‘अस्पताल का रिस्पांस बहुत ही हार्टलेस था. हॉस्पिटल ने कहा कि जान बचा ली है क्या यह बड़ी बात नहीं है. मैंने उनसे कहा कि बहुत सारे ऐसे लोग भी हैं, जिनकी जान नहीं बच पाई. क्या आप उनके लिए रिस्पांसिबल हो. यह इकलौता व्यक्ति है जो कि मैक्स हॉस्पिटल में एकमो (ECMO) के यूज के बाद बच पाया है. इसके लिए मैक्स वाले क्रेडिट चाहते हैं. तो अगर इसका क्रेडिट आप ले रहे हैं तो जो लोग मर गए, उनका क्रेडिट भी आपको लेना पड़ेगा. ऐसे वक्त में जब आपका परिजन अस्पताल में हो, अस्पताल कितने ही पैसे मांगे इंसान देने के लिए तैयार रहता है. ऐसे इमोशनल मोमेंट में अस्पताल द्वारा इस तरह का बिल चार्ज करना अपने आप में बहुत बड़ी बात है और बहुत निंदनीय है.’

‘Saved a life, is it less?’ Saying that Delhi’s Max Hospital gave a bill of 1.5 crores to the Kovid patient

Share This :
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Join #Khabar WhatsApp Group.