Type to search

आ रहा शाहीन तूफान, 7 राज्यों में मचा सकता है भारी तबाही

जरुर पढ़ें देश बड़ी खबर

आ रहा शाहीन तूफान, 7 राज्यों में मचा सकता है भारी तबाही

Share

गुजरात और बिहार समेत 7 राज्यों में अगले 3 दिनों तक भारी बारिश हो सकती है. इसको लेकर भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने अलर्ट जारी किया है और भविष्यवाणी की है कि अगले 12 घंटों में चक्रवाती तूफान शाहीन (Cyclone Shaheen) के मजबूत होने के आसार हैं. इससे पहले 26 सितंबर को आंध्र प्रदेश और ओडिशा के तटीय क्षेत्रों में चक्रवाती तूफान गुलाब (Cyclone Gulab) ने तबाही मचाई थी, जिसमें तीन लोगों की जान चली गई थी.

रिपोर्ट के अनुसार, मौसम विभाग (IMD) की बुलेटिन के अनुसार, गहरा दबाव अब चक्रवात शाहीन में बदल गया है, जो भारत के अलावा पाकिस्तान और ईरान के पास स्थित है. चक्रवाती तूफान का असर बिहार, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक और गुजरात में देखने को मिल सकता है और इन राज्यों में अगले तीन दिनों तक भारी बारिश होने की संभावना है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के मुताबिक, चक्रवाती तूफान शाहीन के आज (1 अक्टूबर) देर रात तक या कल सुबह तक खतरनाक रूप लेने की आशंका है. इसकी वजह से कच्छ और सौराष्ट्र में तेज बारिश हो सकती है. IMD के मुताबिक, अरब सागर में प्रवेश करने के बाद अगले कुछ घंटों में चक्रवाती तूफान शाहीन के पाकिस्तान की ओर बढ़ने की संभावना है.

आईएमडी ने बताया, ‘चक्रवाती तूफान शाहीन के तेज होने के बाद 90 से लेकर 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने की संभावना है. इसके अरब सागर में भारत के तटों से पाकिस्तान में मकरन के तटों की तरफ बढ़ने की आशंका है.’

चक्रवाती तूफान शाहीन का असर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली पर नहीं पड़ेगा, लेकिन इसके बावजूद अगले तीन दिनों के दौरान आसमान में बादल छाए रहने और हल्की बारिश या बूंदा बांदी होने की संभावना है. आईएमडी के एक अधिकारी ने कहा, ‘दिल्ली में शुक्रवार को हल्की बारिश या बूंदा बांदी होने के साथ आमतौर पर बादल छाए रहेंगे.’ मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, मानसून की वापसी में देरी के कारण अक्टूबर के पहले सप्ताह में हल्की बारिश का पूर्वानुमान है.

Shaheen storm is coming, can cause huge destruction in 7 states

Share This :
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *