Type to search

वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए स्पेन ने नहीं दिया भारतीय पहलवानों को वीजा

खेल दुनिया

वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए स्पेन ने नहीं दिया भारतीय पहलवानों को वीजा

Share

भारतीय रेसलिंग फेडरेशन इन दिनों बेहद ही अजीब स्थिति से दो-चार हुआ है. स्पेन में होने वाली अंडर-23 वर्ल्ड चैंपियनशिप मे हिस्सा लेने के लिए भारत के 21 रेसलर को वीजा नहीं दिया गया. हैरानी की बात यह नहीं है कि वीजा रद्द कर दिया गया, फेडरेशन को हैरानी उस कारण से हुई है जो स्पेन के दूतावास ने दिया. स्पेन के दूतावास ने अजीबोगरीब फैसला करते हुए उन 21 भारतीय पहलवानों को वीजा देने से इनकार कर दिया, जिन्हें पोंटेवेदरा में अंडर-23 वर्ल्ड चैंपियनशिप में हिस्सा लेना था.

नेशनल फेडरेशन ने सोमवार को बताया कि खिलाड़ियों का वीजा केवल इसलिए खारिज कर दिया गया क्योंकि दूतावास को संदेह है कि खिलाड़ी वीजा का समय खत्म होने के बाद भी देश नहीं छोड़ेंगे. भारतीय रेसलिंग फेडरेशन ने सोमवार से शुरू हुई चैंपियनशिप के लिए 30 सदस्यीय टीम चुनी थी. हालांकि 30 में केवल 09 ही खिलाड़ियों को ही वीजा दिया गया है. इस चैंपियनशिप में मेडल की बड़ी दावेदार मानी जा रही अंडर 20 वर्ल्ड चैंपियन अंतिम पंघाल भी उन खिलाड़ियों में शामिल हैं जिनका वीजा रद्द किया गया है.

डब्ल्यूएफआई के सहायक सचिव विनोद तोमर ने कहा,हमने इस तरह की स्थिति का सामना पहले कभी नहीं किया था. भारत सरकार का मंजूरी पत्र और वर्ल्ड रेसलिंग कुश्ती की संचालन संस्था यूडब्ल्यूडब्ल्यू का निमंत्रण पत्र दिखाने के बावजूद हमारे पहलवानों को तुच्छ आधार पर वीजा नहीं दिया गया. उन्होंने कहा, हमें आज शाम को नामंजूरी का पत्र मिला जब हमने जल्द से जल्द पासपोर्ट वापस करने का आग्रह किया था. यह वास्तव में अजीबोगरीब है. यह वास्तव में हमारी समझ से परे है कि अधिकारी इस नतीजे पर कैसे पहुंचे कि भारतीय पहलवान और कोच वापस भारत नहीं लौटेंगे.

डब्ल्यूएफआई ने अपने नौ कोच के लिए भी वीजा आवेदन किया था, लेकिन केवल छह को ही वीजा मिला. फ्रीस्टाइल के 10 पहलवानों में से केवल अमन (57 किग्रा) को वीजा मिला जबकि नौ अन्य के आवेदन खारिज कर दिए गए. दिलचस्प बात यह है कि फ्रीस्टाइल के तीन कोच को वीजा दिया गया. छह ग्रीको रोमन पहलवान और महिलाओं में से केवल अंकुश (50 किग्रा) और मानसी (59 किग्रा) को ही वीजा मिला. तोमर ने कहा, अब हम एक पहलवान के लिए तीन कोच कैसे भेज सकते हैं, इसलिए हम जगमंदर सिंह को अमन के साथ भेज रहे हैं. छह ग्रीको रोमन पहलवान पहले ही स्पेन पहुंच चुके हैं और दो महिला पहलवान रविवार को रवाना हो गई हैं.’

Spain did not give visa to Indian wrestlers for World Championship

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *