Type to search

श्रीलंका में भयावह हालात, खाने-पीने के बदले संबंध बनाने को मजबूर महिलाएं

जरुर पढ़ें दुनिया देश

श्रीलंका में भयावह हालात, खाने-पीने के बदले संबंध बनाने को मजबूर महिलाएं

Share on:

श्रीलंका में आर्थिक हालात दिन ब दिन खराब होते जा रहे हैं. लोगों को अपना घर तक चलाना मुश्किल हो रहा है. यहां तक कि खाने और दवाइयों तक के लाले पड़ गए हैं. इसके चलते पिछले कुछ दिनो में यहां वेश्यावृत्ति तेजी से बढ़ी है. पेट पालने के लिए यहां कई महिलाएं सेक्स वर्कर बनने को मजबूर हैं. आयुर्वेदिक स्पा सेंटर की आड़ में यहां धड़ल्ले से सेक्स वर्क का काम चल रहा है.

इन स्पा सेंटर में पर्दे और क्लाइंट्स के लिए बेड लगाकर इन्हें अस्थायी वेश्यालय का रूप दिया जा रहा है. रिपोर्ट्स के अनुसार, सेक्स इंडस्ट्री से जुड़ी ज्यादातर महिलाएं कपड़ा उद्योग से आ रही हैं. जनवरी तक यहां काम था लेकिन उसके बाद देश की बिगड़ती अर्थव्यवस्था की वजह से उन्हें इस धंधे में आना पड़ा. एक सेक्स वर्कर ने अखबार को बताया, ‘हमने सुना है कि देश में आर्थिक संकट के कारण हम अपनी नौकरी खो सकते हैं और इस समय हम जो सबसे अच्छा विकल्प देख रहे हैं वो है सेक्स वर्क.’

महिला ने कहा, ‘पहले काम में हमारा मासिक वेतन लगभग 28,000 रुपये था और ओवरटाइम के साथ हम अधिकतम 35,000 रुपये कमा सकते थे लेकिन सेक्स वर्क में शामिल होकर हम हर दिन 15,000 रुपये से ज्यादा कमा लेते हैं. हर कोई मेरी बात से सहमत नहीं होगा, लेकिन यह सच है.’ एक अख़बार ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया था कि इस साल जनवरी से कोलंबो में सेक्स वर्क में शामिल होने वाली महिलाओं की संख्या में 30 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है.

कई रिपोर्ट्स से यह भी पता चलता है कि खाने और दवाइयों जैसी जरूरी चीजों के लिए महिलाएं बदले में स्थानीय दुकानदारों के साथ सेक्स करने को मजबूर हैं. कथित तौर पर कोलंबो के भंडारनायके अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा के पास औद्योगिक क्षेत्र में इस देह व्यापार को बढ़ाया जा रहा है. रिपोर्ट्स में यह भी दावा किया गया है कि इन असहाय महिलाओं को क्लाइंट्स के आग्रह पर असुरक्षित यौन संबंध बनाने के लिए मजबूर किया जाता है.

Terrible situation in Sri Lanka, women forced to have sex in exchange for food and drink

Asit Mandal

Share on:
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *