Type to search

नहीं होगी शिवलिंग की कार्बन डेटिंग, कोर्ट ने खारिज की अपील

देश

नहीं होगी शिवलिंग की कार्बन डेटिंग, कोर्ट ने खारिज की अपील

Share

उत्तर प्रदेश के वाराणसी में स्थित ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे में मिले कथित शिवलिंग की कार्बन डेटिंग को लेकर जिला जज वाराणसी ए.के विश्वेश की अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है. कोर्ट ने ज्ञानवापी में मिले कथित शिवलिंग की वैज्ञानिक जांच यानी कार्बन डेटिंग से संबंधित याचिका को ठुकरा दिया है. हिंदू पक्ष की ओर से ये याचिका दायर की गई थी कि बिना क्षति पहुंचाए कथित शिवलिंग की कार्बन डेटिंग करवाई जाए, जिसे वाराणसी जिला जज ने खारिज कर दिया है.

दरअसल 16 मई को ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे के दौरान मिले कथित शिवलिंग के मुद्दे पर चार वादी महिलाओं ने बिना क्षति पहुंचाए कार्बन डेटिंग की मांग की थी. वहीं इस मामले में जवाब देने के लिए अंजुमन इंतजमिया मसाजिद कमेटी ने कोर्ट समय मांगा था. मुस्लिम पक्ष ने कहा था कि कार्बन डेटिंग नहीं की जानी चाहिए. यह शिवलिंग नहीं एक फव्वारा है. इसका पता नहीं लगाया जा सकता है.

वहीं कोर्ट ने दोनों की दलीलें सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. मंगलवार को कोर्ट ने कहा कि 14 अक्टूबर को अगली सुनवाई की जाएगी. बता दें कि बीते 22 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता विष्णुशंकर जैन ने समेत अन्य ने कोर्ट में शिवलिंग की आकृति की एएसआई विशेषज्ञ से कार्बन डेटिंग कराने का अनुरोध किया था.

राखी सिंह तथा अन्य ने ज्ञानवापी परिसर में स्थित श्रृंगार गौरी के विग्रहों की सुरक्षा और नियमित पूजा पाठ के आदेश देने के संबंध में वाराणसी के सिविल जज (सीनियर डिवीजन) की अदालत में याचिका दायर की थी. वहीं कोर्ट के आदेश पर मई में ज्ञानवापी का सर्वे कराया गया. मुस्लिम पक्ष में इस पर आपत्ति जताते हुए कहा था कि यह फैसला उपासना स्थल अधिनियम 1991 के प्रावधानों के खिलाफ है. इसी दलील पर मुस्लिम पक्ष ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा भी खटखटाया था.

ऐसा माना जाता है कि इस मस्जिद का निर्माण औरंगजेब ने करवाया था. हिंदू पक्ष का कहना है कि मस्जिद से पहले उसी जगह पर मंदिर हुआ करता था. मुगल शासक औरंगजेब ने साल 1699 में काशी विश्वनाथ मंदिर को तोड़कर मस्जिद बनवाई थी. दावा है कि मंदिर में भगवान विश्वेश्वर के स्वयंभू ज्योतिर्लिंग विराजमान थे. यह भी कहा जाता है कि मस्जिद में मंदिर के अवशेषों का इस्तेमाल भी किया गया था.

There will be no carbon dating of Shivling, the court dismissed the appeal

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *