Type to search

UP Election : BJP में शामिल हो सकते हैं समाजवादी पार्टी के 17 विधायक

जरुर पढ़ें देश राजनीति

UP Election : BJP में शामिल हो सकते हैं समाजवादी पार्टी के 17 विधायक

Share

यूपी में विधानसभा चुनाव का माहौल गरम हो गया है। पक्ष-विपक्ष एक दूसरे पर टिप्पणी करना शुरू कर दिया है। इस बीच चुनाव अपने नाम करने अमित शाह ने अपना प्लान तैयार कर लिया है। वह सीक्रेट प्लान बीजेपी का पुराना आजमाया हुआ फॉर्मूला है और उसी फॉर्मूले ने बीजेपी को बीते 7 सालों में हर चुनाव में जीत दिलाई है।

एक बार फिर उसी रणनीति के तहत बीजेपी ने 2022 का चुनाव जीतने की अपनी सियासी बिसात बिछा दी है। बीते 7 सालों में उत्तर प्रदेश में 2 लोकसभा के और 1 विधानसभा के चुनाव हो चुके हैं हर चुनाव में बीजेपी ने बंपर जीत हासिल की है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने एक बार फिर जब 2022 के चुनाव करीब आ गए हैं तो उत्तर प्रदेश की सारी कमान अपने हाथ में ले ली है। वाराणसी में जब पार्टी की अब तक की सबसे बड़ी बैठक को उन्होंने संबोधित किया।

दरअसल, बीजेपी का वो सीक्रेट प्लान है दूसरे दलों में सेंधमारी कर जीत का माद्दा रखने वाले विधायकों, पूर्व विधायकों पूर्व सांसदों को अपनी पार्टी में शामिल करा लेना। जब 2014 के लोकसभा चुनाव देश में हो रहे थे उससे पहले भी बीजेपी ने यही रणनीति अपनाई थी। कांग्रेस के तमाम बड़े दिग्गज बीजेपी में शामिल हुए थे और जब बारी उत्तर प्रदेश में 2017 के विधानसभा चुनाव की आई तो भी बीजेपी ने इसी फॉर्मूले को अपनाया बीएसपी कांग्रेस सपा में जबरदस्त सेंधमारी की। 2014 में जहां बसपा के राज्यसभा सदस्य रहे एस पी सिंह बघेल ने बीजेपी जॉइन की तो वहीं 2015 में बसपा के कद्दावर नेता दारा सिंह चौहान, राज्यसभा के सदस्य रहे जुगल किशोर, यूपी में बसपा सरकार में मंत्री रहे फतेह बहादुर सिंह शामिल हुए, तो वहीं कांग्रेस का बड़ा नाम रहे अवतार सिंह भड़ाना भी बीजेपी में शामिल हुए थे।

2022 के चुनाव के लिए भी बीजेपी के चाणक्य अमित शाह ने कुछ ऐसी ही रणनीति तैयार की है। लेकिन, इस बार उनकी कोशिश समाजवादी पार्टी में सेंधमारी की है और इसके संकेत भी हाल ही में समाजवादी पार्टी के विधायक सुभाष पासी के बीजेपी ज्वाइन करने के साथ ही मिलने भी लगे हैं। सूत्रों की मानें तो लगभग 17 के आसपास समाजवादी पार्टी के विधायक बीजेपी की सदस्यता ग्रहण कर सकते हैं, इसकी तस्दीक खुद ज्वाइनिंग कमेटी के मेंबर और यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने एबीपी गंगा पर की थी।

चुनाव से पहले बीजेपी की कोशिश है कि उन दलों में सेंधमारी की जाए जिनके नेताओं का अपने क्षेत्र में अच्छा प्रभाव है. यह उसका टेस्टेड फॉर्मूला भी रहा है. और इसीलिए 2022 के चुनाव में बीजेपी अपने टेस्टेड फॉर्मूले को एक बार फिर आजमाने में जुटी है।

UP Election: 17 Samajwadi Party MLAs may join BJP

Share This :
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *