Type to search

अब तक 59

जरुर पढ़ें देश

अब तक 59

Share

हर जंग सरहद पर नहीं लड़ी जाती। स्मार्टफोन  एप के मैदान में पहला आक्रमण भारत ने किया है। डाटा सिक्योरिटी और प्राइवेसी को लेकर Indian Cyber Crime Coordination Centre की सलाह पर भारत सरकार ने बगैर चीन का नाम लिए 59 चीनी एप बैन कर दिए हैं।

मोबाइल एप की दुनिया में चीन की सबसे बड़ी कंपनियां ByteDance, Alibaba, Tencent और Baidu इस फैसले से प्रभावित हुई हैं।

सरकार की चिंता कितनी जायज है?

एप डाउनलोड करते वक्त हम लोग ये गौर नहीं करते कि हम अपनी कई निजी जानकारी एप कंपनी को लेने की इजाजत दे देते हैं-जैसे कान्टैक्ट लिस्ट, गैलरी में सेव की हुई तस्वीरें। कई बार हमें बगैर बताए ये एप हम पर नजर रख रहे होते हैं। जैसे गूगल हमारे हर सर्च का इतिहास रखता है और फेसबुक के लिए हमारी हर पोस्टिंग एक प्रोडक्ट है जिसे वो किसी कंपनी को सेल करता है…जैसे एयरपोर्ट पर हमारी सेल्फी पोस्ट होते ही मेक माई ट्रिप का एड हमारे पास आ जाता है। मोटे तौर पर एप हमारे बारे में तीन बातें जानते हैं

  1. हम मोबाइल पर क्या करते हैं ?
  2. हम मोबाइल पर क्या कहते हैं ?
  3. हम मोबाइल साथ में लेकर कब और कहां गए थे?

चीन के मामले में ये खतरा इसलिए ज्यादा है क्योंकि चीन के National Intelligence Law के तहत चीन की हर कंपनी खुफिया जानकारी देने के लिए कानूनी तौर पर बाध्य है।

यही वजह है कि 2017 में डोकलाम विवाद के दौरान रक्षा मंत्रालय ने सैनिकों को 42 चीनी एप अनइंस्टॉल करने का आदेश दिया था।

इसके पहले अप्रैल 2015 में सिंगापुर की एक साइबर सिक्योरिटी फर्म ने एक चीनी मोबाइल बग APT30 का पता लगाया था, जो मोबाइल के जरिए साउथ चाइना सी में इंडियन नेवी के मूवमेंट और कोच्ची में मौजूद एयरक्राफ्ट करियर की जासूसी के लिए बनाया गया था।

Forbes के मुताबिक पिछले साल अक्टूबर में अमेरिका के Director of National Intelligence, Joseph Maguire को दो सीनेटर Chuck Schumer और Tom Cotton ने खत लिख कर चीनी एप टिकटॉक से अमेरिकी सुरक्षा को होने वाले खतरे से आगाह किया था।

With over 110 million downloads in the U.S. alone, “TikTok is a potential counterintelligence threat we cannot ignore,”“Given these concerns, we ask that the Intelligence Community conduct an assessment of the national security risks posed by TikTok and other China-based content platforms operating in the U.S. and brief Congress on these findings.”

Chuck Schumer, Tom Cotton

बीते हफ्ते अमेरिका के एक टेकी ने TikTok की रिवर्स इंजीनियरिंग कर ये दिखाया था कि ये एप आईफोन के clipboard files का सारा डाटा अपने सर्वर में स्टोर कर रहा है।

Emojipediaके संस्थापक Jeremy Burge ने भी ट्वीटर पर एक वीडियो पोस्ट कर बताया था कि iOS 14 के नए paste notification से उन्हें पता चला है कि बगैर अपने यूजर्स को बताए, टिकटॉक क्लिपबोर्ड के कन्टेंट को सेव कर रहा है।

 अमेरिका में टिकटॉक के 11 करोड़ यूजर हैं। ट्रंप कैंपेन के विरोधियों ने टिकटॉक का इस्तेमाल कर ये झूठा एहसास दिलाया कि ट्रंप के Tulsa campaign rally की 8 लाख टिकटें बिक चुकी हैं। और जब प्रेसीडेंट ट्रंप रैली में आए, तब तक सिर्फ  सात हजार सीटें ही बिकी थीं, और स्टेडियम की ज्यादातर सीटें खाली थीं ।

एप और वेबसाइट के जरिए जासूसी की जा सकती है, इसी अंदेशे से चीन ने फेसबुक, गूगल, ट्वीटर, इंस्टाग्राम को अपने यहां बैन कर रखा है।

अब पहली बार उसे अपने एप के किसी दूसरे देश में बैन होने के एहसास से गुजरना पड़ रहा है।

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Up