Type to search

जिन्हें कोरोना है, उन्हें कौन सी दवा दी जा रही है?

कोरोना जरुर पढ़ें

जिन्हें कोरोना है, उन्हें कौन सी दवा दी जा रही है?

Share

कोरोना की कोई एक दवा अभी तक तय नहीं हुई है। किसी मरीज को डॉक्टर कौन सी दवा देगा,ये इस बात पर निर्भर करता है कि वो मरीज किस देश में है?

दुनिया भर में कोरोना के इलाज को लेकर 60 से ज्यदा दवाओं पर रिसर्च हो रहा है। इनमें से चार को WHO ने अब तक सबसे कारगर माना है। WHO की निगरानी में इन चार दवाओं का दुनिया भर के मरीजों पर Solidarity के नाम से क्लिनिकल ट्रायल हो रहा है।

ये दवाइयां हैं –

  1. Remdesivir – सार्स, मर्स और इबोला वायरस के लिए इस दवा का ट्रायल किया गया था।
  2. Lopinavir/Ritonavir-  ये HIV की दवा है। लैब टेस्ट में ये दवा कारगर पाई गई।
  3. Interferon beta-1a- मल्टिपल स्किलेरोसिस में ये दवा कारगर मानी जाती है
  4. Chloroquine  and hydroxyl chloroquine – ये मलेरिया की दवा है

अमेरिका

  1.   Hydroxyl chloroquine – अमेरिका में कोरोना मरीजों को दी गई ये पहली दवा है।
  2. वेंटिलेटर पर रखे गए गंभीर मरीजों को convalescent plasma( कोरोना के स्वस्थ हो चुके मरीजों का खून लेकर उसमें से प्लाज्मा अलग कर गंभीर मरीजों को देना) देने से कई मामलों में पाया गया कि उन्हें वेंटिलेटर पर रखने की जरूरत नहीं रही।
  3.  Remdesivir – अब तक 1063 कोरोना मरीजों पर दुनिया भर में इस दवा का क्लिनिकल ट्रायल हुआ है जिसे संतोष जनक माना गया है। अमेरिका में Gilead कंपनी के ट्रायल से पता चला कि जिन मरीजों को ये दवा दी गई वो औसतन 15 दिन की जगह 11 दिन में ही स्वस्थ हो रहे हैं। इस दवा में कोरोना के वायरस sarv cov-2 को रोकने की ताकत पाई गई है।
  4.  सिएटल में कुछ गंभीर मरीजों को Actemra  दिया गया। ये rheumatoid arthritis की दवा है जिसे  2017 में कैंसर के उन मरीजों को दिए जाने की मंजूरी मिली थी जिन्हें cytokine storms की हालत से गुजरना पड़ता है।
  5. Famotidine- 13 मार्च से न्यूयॉर्क में नॉर्थवेल हेल्थ के अस्पतालों में IV के जरिए ये दवा कई मरीजों को हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के साथ कॉम्बिनेशन ड्रग की तरह दी गई। heartburn की इस आम दवा की नौ गुनी मात्रा का कोरोना मरीजों पर इस्तेमाल किया गया।

चीन

  1. Avigan – ये फ्लू की दवा है, जिसे जापान की कंपनी फ्यूजी फिल्म की सहयोगी कंपनी Toyama chemical ने बनाया है। चूंकि कोरोना के शुरूआती मरीजों के लक्षण फ्लू जैसे थे, लिहाजा ये पहली दवा थी जिसका चीन में कोरोना के मरीजों पर इस्तेमाल किया गया।
  2. शंघाई मेडिकल एसोसिएशन के द्वारा विटामिन C को प्रस्तावित किए जाने के बाद 14 फरवरी से वुहान के झोंगनैन अस्पताल में  140 मरीजों को  IV के जरिए ये दवा दी गई।
  3. convalescent plasma – वुहान और शेनजेन में गंभी रूप से बीमार और वेंटिलेटर पर रखे गए मरीजों पर सबसे पहले ये नुस्खा चीन में ही आजमाया गया
  4. Remdesivir – कोरोना की ये पहली दवा है जिसका क्लिनिकल ट्रायल शुरू हुआ। ये ट्रायल चीन में ही सबसे पहले शुरू हुआ

स्पेन

  1. Aplidin (plitidepsin)- स्पेन में मरीजों पर इस दवा का फेज-2 ट्रायल चल रहा है। ये multiple myeloma कैंसर की दवा है।

इटली

  1. Hydroxychloroquine- इटली के डॉक्टरों के मुताबिक इटली में यही दवा सबसे ज्यादा कारगर साबित हुई है।

फ्रांस

  1. Ivermectin – एंटी पारासाइट ड्रग है जिसका इस्तेमाल कोविड 19 के केसेज में सबसे पहले ऑस्ट्रेलिया में हुआ और अब फ्रांस में हो रहा है।

भारत

  1. Lopinavir/Ritonavir-  जयपुर में जब कोरोना के शुरूआती मामले आए, तभी इस दवा का कुछ मरीजों पर ट्रायल किया गया
  2.  ICMR ने 22 मार्च को कोरोना मरीजों की देखभाल कर रहे सभी हेल्थ वर्कर्स को प्रीवेंटिव मेडिसीन के तौर पर हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन देने का सुझाव दिया।
  3.  convalescent plasma-18 अप्रैल को ICMR ने इसकी इजाजत दी। अब एम्स सहित कई अस्पतालों में इसके ट्रायल की संभावना है।
  4.  Remdesivir – Strides Pharma और glenmark  कंपनियां इस दवा को भारत में बना रही है। क्लिनिकल ट्रायल के लिए मरीजों पर ये जल्द ही इस्तेमाल होने वाली है।
  5. उत्तराखंड में हेल्थ वर्कर्स के लिए होम्योपैथिक दवा – Arsenic album 30  और आयुर्वेदिक दवा गिलोई, अश्वगंधा और तुलसी के सेवन की सलाह दी गई है।

पाकिस्तान

Hydroxyl chloroquine – लाहौर के मेयो हॉस्पीटल में भर्ती कोरोना के गंभीर मरीजों पर इस दवा का ट्रायल चल रहा है।

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare

1 Comment

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *