Type to search

अनलॉक-1 : क्या है खास?

देश बड़ी खबर

अनलॉक-1 : क्या है खास?

lockdown 4.0 announced with more liberties
Share on:

कोरोना वायरस के वजह से लगातार चल रहे लॉकडाउन के बीच केंद्र सरकार ने धीरे-धीरे छूट देने का फैसला किया है। 68 दिनों के लॉकडाउन के बाद अब चरणबद्ध तरीके से बंदिशें हटाने के लिए दिशा-निर्देश जारी किये गये हैं। सूत्रों के मुताबिक राज्य सरकारों से मिले तमाम सुझावों को केन्द्र सरकार ने मान लिया और उसी आधार पर नये गाइडलाइन्स की घोषणा की है। अगले चरण में लॉकडाउन सिर्फ कंटेनमेंट जोन में रहेगा, जिसे 30 जून तक के लिए बढ़ाया गया है। अन्य जगहों पर सभी गतिविधियां चरणबद्ध तरीके से शुरू करने का काम राज्य सरकारें करेंगी।

क्या-क्या खुलेगा?

  • एक जून से पूरे देश में कहीं भी लोग आने जाने के लिए स्वतंत्र हो जाएंगे। इसके लिए किसी पास या मंजूरी लोगों को नहीं लेनी होगी।
  • एक जून से राज्य के भीतर या राज्यों के बीच लोगों की आवाजाही या सामानों के परिवहन पर किसी तरह की पाबंदी नहीं होगी।
  • अगर कोई राज्य / केंद्र शासित प्रदेश, सार्वजनिक स्वास्थ्य के कारणों और स्थिति के आकलन के आधार पर, व्यक्तियों के आने-जाने को लेकर कोई प्रतिबंध लगाता है तो उसे इन पाबंदियों के संबंध में पहले विस्तृत विज्ञापन देना होगा और इसके बाद इससे संबंधित प्रक्रिया को आगे बढ़ाना होगा।
  • एक राज्य से दूसरे राज्य के बीच व्यापार फिर से शुरू किया जा सकेगा। किसी भी राज्य या केंद्र शासित प्रदेश की सरकार को व्यापार रोकने की अनुमति नहीं है।
  • आठ जून से सभी धार्मिक स्थल, होटल, रेस्टोरेंट और शॉपिंग मॉल खोले जा सकेंगे। केंद्र इनके लिए एसओपी जारी करेगा, ताकि कोरोनोवायरस के प्रसार को रोका जा सके।
  • यात्री ट्रेन, श्रमिक स्पेशल ट्रेन, घरेलु उड़ान, इंटरनेशनल फ्लाइट्स, यात्रियों को देश विदेश लाने ले जाने के लिए सभी विशेष इंतजाम के लिए केंद्र सरकार द्वारा जारी पूर्व के नियमों का ही पालन होगा।
  • मालिकों को यह सुनिश्चित करना होगा कि उनके कर्मचारी आरोग्य सेतु ऐप का उपयोग करें और नियमित रूप से अपनी स्वास्थ्य स्थिति को अपडेट करते रहें।
  • 65 वर्ष से अधिक आयु के लोगों, गर्भवती महिलाओं और बच्चों को घर पर रहने की सलाह दी गई है, पर पाबंदी नहीं लगाई गई है।

क्या नहीं खुलेगा?

  • स्कूलों, कॉलेजों, शिक्षण संस्थानों, प्रशिक्षण और कोचिंग संस्थानों को राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के साथ सलाह के बाद अगले चरण में खोला जाएगा। इन संस्थानों को खोलने पर जुलाई में फैसला होगा।
  • ये फैसला राज्य सरकारों को लेना है कि वे स्कूल-कॉलेज और शैक्षणिक संस्थान खोलना चाहते हैं या नहीं।
  • कर्फ्यू का समय अब रात नौ बजे से सुबह पांच बजे तक कर दिया गया है। इस दौरान आवश्यक सेवाओं से जुड़े लोगों के अलावा देशभर में अन्य लोगों के बाहर निकलने पर पाबंदी होगी।
  • रात 9:00 बजे से सुबह 5:00 बजे तक कर्फ्यू को सख्ती से लागू किया जाएगा, सिवाय जरूरी गतिविधियों या सेवाओं के लोगों को घरों से निकलने की इजाजत नहीं होगी। 
  • इंटरनेशनल फ्लाइट्स, मेट्रो रेल, सिनेमा हॉल, जिम, स्वीमिंग पूल आदि खोलने पर फैसला कोरोना संकट की स्थिति का आकलन करने के बाद लिया जाएगा।
  • लंबे समय से बंद पड़ी दिल्ली मेट्रो की सेवाएं शुरू नहीं हो पाएंगी। देश भर में मेट्रो रेल के संचालन को अनुमति नहीं मिली है, इसलिए अगले आदेश तक मेट्रो सेवाएं बंद रहेंगी।
  • अभी पब्लिक गैदरिंग वाले फंक्शन यानी पार्टी, रैली, खेल आदि को खोलने पर भी फैसला नहीं हुआ है।
  • फेस मास्क, सैनिटाइजर और सोशल डिस्टेंसिंग को बढ़ावा देने पर बल दिया गया है। बड़े समारोहों पर रोक जारी रहेगी। शादी में ज्यादा से ज्यादा 50 मेहमान और अंतिम संस्कार में सिर्फ 20 लोग शामिल हो सकेंगे।
  • लॉकडाउन 5 में भी कंटेनमेंट जोन को किसी भी तरह की छूट नहीं रहेगी। यानी सिर्फ जरूरी सेवाओं के लिए ही दुकानें या आवागमन की छूट रहेगी।

Shailendra

Share on:
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *