Type to search

ताइवान को बनाएंगे चीन का हिस्सा : शी जिनपिंग

दुनिया देश बड़ी खबर

ताइवान को बनाएंगे चीन का हिस्सा : शी जिनपिंग

Share

बीजिंग – इस महीने चीन और ताइवान के बीच काफी ज्यादा तनाव बढ़ा हुआ है और चीन डेढ़ सौ से ज्यादा लड़ाकू जहाजों को ताइवान के हवाई क्षेत्र में भेज चुका है। ऐसा लग रहा था कि कभी भी चीन ताइवान के ऊपर हमला कर सकता है और ताइवान की रक्षा के लिए अमेरिका ने अपने एयरक्राफ्ट कैरियर को भी तैनात कर दिया था। इन सबके बीच चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने ताइवान को चीन में फिर से शामिल कराने की बात कही है। हालांकि, इस बार उन्होंने कहा कि, ताइवान को शांति के साथ चीन का हिस्सा बनाया जाएगा।

चीन के राष्ट्रपति ने कहा कि, ‘ताइवान के सवाल’ को शांति के साथ सुलझाएंगे। शी जिनपिंग की ये टिप्पणी चीन द्वारा ताइवान के वायु रक्षा क्षेत्र में लगातार चार दिनों तक सार्वजनिक बल प्रदर्शन के तहत लड़ाकू विमानों को भेजने के बाद आई है। ताइवान खुद को एक संप्रभु राज्य मानता है, लेकिन चीन स्व-शासित द्वीप को चीन का ही एक अलग प्रांत के रूप में देखता है। बीजिंग ने ताइवान को चीन से मिलाने के लिए बल प्रयोग की बात से इनकार नहीं किया है। देश के अंतिम शाही वंश को समाप्त करने वाली क्रांति की 110वीं वर्षगांठ मनाने के लिए बीजिंग में ‘ग्रेट हॉल ऑफ द पीपल’ में बोलते हुए शी जिनपिंग ने कहा कि चीन के पुनर्मिलन में सबसे बड़ी बाधा “ताइवान स्वतंत्रता” बल थी।

चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीसी) के महासचिव शी जिनपिंग ने कहा कि ताइवान का सवाल चीनी राष्ट्र की ‘कमजोरी’ और ‘अराजकता’ से उत्पन्न हुआ है और इसे राष्ट्रीय कायाकल्प के रूप में हल किया जाएगा। शी जिनपिंग ने ताइवान को चीन का हिस्सा बनाने की बात पर कहा कि, “यह चीनी इतिहास की सामान्य प्रवृत्ति से निर्धारित होता है, लेकिन इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि यह सभी चीनी लोगों की सामान्य इच्छा है।”

आपको बता दें कि, जब माओ के नेतृत्व में कम्यूनिस्ट पार्टी ने चीन की लोकतांत्रिक पार्टी के नेताओं की हत्या करनी शुरू कर दी, तो लोकतांत्रिक नेता अपनी जान बचाकर ताइवान भागने लगे थे। 1911 में डॉ. सन-यात सेन के नेतृत्व में लोकतांत्रिक राष्ट्रवादी पार्टी ने चीन में क्रांति लाने की कोशिश की थी और 2 हजार 136 सालों से चीन में चली आ रही राजशाही सत्ता को उखाड़ फेंका था और फिर चीन रिपब्लिकन युग की शुरूआत की थी। लेकिन चीन में माओ जेदांग ने 1949 में पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चायना की स्थापना की और डॉ. सन-यात सेन को अपने समर्थकों के साथ चीन छोड़कर भागना पड़ा। कम्यूनिस्ट माओ पर आरोप है कि उन्होंने लाखों लोगों को मरवा दिया था। चीन से भागने के बाद डॉ. सन-यात सेन ने 1949 में एक स्वतंत्र देश ताइवान की स्थापना की, जो पहले चीन का ही एक द्वीप था, जिसपर एक बार फिर से चीन कब्जा करने की कोशिश कर रहा है।

Will make Taiwan a part of China: Xi Jinping

Share This :
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *