Type to search

‘वयस्कों के लिए वर्क फ्रॉम होम और बच्चों को स्कूल बुला रहे हो!’, सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार को लगाई फटकार

जरुर पढ़ें देश

‘वयस्कों के लिए वर्क फ्रॉम होम और बच्चों को स्कूल बुला रहे हो!’, सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार को लगाई फटकार

Share

दिल्ली एनसीआर में वायु प्रदूषण के बढ़ते स्तर को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को 17 वर्षीय छात्र आदित्य दुबे की याचिका पर सुनवाई की। सुनवाई के दौरान, अदालत ने शहर में बढ़ते प्रदूषण के स्तर के बीच स्कूल को फिर से खोलने के दिल्ली सरकार के फैसले को खारिज कर दिया। कोर्ट ने सरकार से पूछा कि जब सरकार ने वयस्कों के लिए वर्क फ्रॉम होम लागू किया है तो बच्चों को स्कूल जाने के लिए क्यों मजबूर किया जा रहा है।

कोर्ट ने सिंघवी को कहा कि हम आपके बयानों को गंभीरता से ले रहे हैं। आपने कई दावे किए हैं। आपने कहा है कि आपने स्कूल बंद कर दिया है। लेकिन सभी स्कूल बंद नहीं हैं। 3 से 4 साल के बच्चे स्कूल जा रहे हैं।

सर्वोच्च अदालत ने कहा, “हमें लगता है कि वायु प्रदूषण के मुद्दे पर कुछ नहीं हो रहा है। जबकि इसका स्तर लगातार खराब होता जा रहा है. यदि आप कुछ नहीं करते हैं, तो हमें रुकना होगा,” CJI रमन्ना ने कहा। “हम चाहें तो किसी को भी नियुक्त कर सकते हैं।”

सिंधवी ने कोर्ट को बताया कि कल भी मंत्री सेंट्रल विस्टा में उड़ती धूल को देख रहे थे। हमारे पास इच्छाशक्ति है और हम कार्रवाई कर रहे हैं। न्यायमूर्ति सूर्यकांत ने कहा, “हम वास्तविक धूल नियंत्रण चाहते हैं। सिर्फ रिपोर्ट नहीं।”

दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को लेकर CJI ने कहा कि हम औद्योगिक और वाहनों से होने वाले प्रदूषण को लेकर गंभीर हैं. आप हमारे कंधों पर बंदूक रखकर गोली नहीं चला सकते। आपको कार्रवाई करनी होगी। स्कूल क्यों खुला है? हमारे भी बच्चे है, भतीजी और भतीजे भी हैं। हम आपको 24 घंटे दे रहे हैं। हम चाहते हैं कि आप इस पर गंभीरता से विचार करें और समाधान निकालें।”

‘Work from home for adults and calling children to school!’, Supreme Court reprimands Delhi government

Share This :
FacebookTwitterWhatsAppTelegramShare
Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *